loading...
Breaking News
recent

सम्पूर्ण जानकारी नेपाल में भूकंप - Sampurn Jankari Nepal me Bhukamp

Nepal Earthquake :- 




नेपाल में भूकंप से भारी तबाही
नेपाल में शनिवार को आए जबरदस्त भूकंप से कई धार्मिक और रिहाइशी इमारतें तबाह हो गई हैं. पड़ोसी देश में अब तक 3726 लोगों की मौत हो चुकी है और 6833 लोग जख्मी हो गए हैं. भूकंप से कुल 66 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित बताए जा रहे हैं. भारत में ही अब तक कुल 72 लोगों की जान जा चुकी है. सिर्फ बिहार में ही 51 लोगों की मौत हुई है.
अपने मित्र देश में राहत और बचाव के काम के लिए भारत ने पूरी ताकत झोंक दी है. भूकंप के बाद भी हल्के झटकों का आना जारी है. सोमवार सुबह भी काठमांडू से लेकर हापुड़ तक भूकंप के झटके महसूस किए गए.
सोमवार सुबह नेपाल से सटे यूपी के लखीमपुर खीरी, बहराइच, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं. बिहार के दरभंगा, सीतामढ़ी, अररिया, रक्सौल, समस्तीपुर, बेतिया, औरंगाबाद, बाढ़ जिलों को भूकंप के झटकों ने एक बार फिर हिला दिया है.

 यह भी पढ़े >> जम्मू कश्मीर में मौसम ने मचाई तबाही


थमने का नाम नहीं ले रहे भूकंप के झटके
रविवार दोपहर 12:42 बजे भी दिल्ली-एनसीआर में जबरदस्त झटके महसूस किए गए थे. नेपाल में 6.9 रिक्टर स्केल तीव्रता का भूकंप आया. भूकंप के बाद माउंट एवरेस्ट में फिर से हिमस्खलन की खबर है.
दूसरी तरफ, नेपाल से फंसे हुए लोगों को निकालने का काम तेजी से जारी है. भारतीय वायुसेना के विमान से फंसे हुए लोगों को काठमांडू से दिल्ली लाया जा रहा है. रविवार शाम 5 बजे भारतीय वायुसेना का C-17 ग्लोबमास्टर विमान 285 भारतीयों को लेकर दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर लैंड किया. शनिवार को भी करीब 546 भारतीयों को एयरफोर्स की मदद से दिल्ली लाया गया था.
रविवार को दिल्ली के अलावा पंजाब, राजस्थान, हरियाणा, झारखंड और कोलकाता में भूकंप के झटके महसूस किए गए. दिल्ली में भूकंप की वजह से मेट्रो सेवा रोक दी गई. हालांकि बाद में मेट्रो को फिर से शुरू कर दिया गया.


भारत ने 34 सदस्यीय चिकित्सकीय टीम नेपाल भेजी
भारत ने भूकंप प्रभावित नेपाल के लिए रविवार को 15 टन चिकित्सकीय आपूर्ति के साथ चिकित्सकों और तकनीशियनों की 34 सदस्यीय एक टीम भेजी है. अधिकारियों ने बताया कि यह टीम नेपाल के लिए वायुसेना के एक विमान में रवाना हो चुकी है.
स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया, ‘आज नेपाल के लिए 15 टन चिकित्सकीय साजो सामान रवाना किया गया. स्वास्थ्य मंत्रालय ने नेपाल में आपात चिकित्सकीय राहत मुहैया कराने के लिए 34 सदस्यीय चिकित्सकीय टीम भी भेजी है जिसमें 10 ऑर्थोपेडिक सर्जन, चार एनीस्थिटिस्ट्स, 12 पुरूष नर्स और आठ ओटी तकनीशियन शामिल हैं.’ इसके साथ ही जल शोधन संयंत्र स्थापित करने और संचालित करने के लिए तीन तकनीशियन भी भेजे गए हैं. मंत्रालय ने कल के विनाशकारी भूकंप के बाद स्वास्थ्य सेवाओं को हाई अलर्ट पर रखा है.
भरतपुर में भूकंप से मौत, 8 घायलराजस्थान के भरतपुर में भूकंप की वजह से एक लड़की की मौत की खबर है. लड़की की मौत स्कूल की दीवार गिरने से हुई. जबकि 8 बच्चे घायल हो गए. कोटा में भी भूकंप से छत गिर गई. जबकि मुरादाबाद में एक घर की दीवार गिर गई.

इससे पहले नेपाल में शनिवार का आए भीषण भूकंप से अब तक करीब 3200 से ज्यादा लोग अपनी जिंदगी गंवा चुके हैं. रविवार सुबह भी नेपाल में भूकंप के झटके महसूस किए गए. भारतीय सेना ने नेपाल में बचाव कार्य के लिए 'ऑपरेशन मैत्री' शुरू कर बचाव कार्य तेज कर दिया है. उधर भारत में अब तक इससे 67 लोगों की मौत हुई है.
एनडीआरएफ की टीमें राहत-बचाव कार्य में जुट गई हैं. एनडीआरएफ के डायरेक्टर जनरल ओपी सिंह सोमवार को हालात का जायजा लेने नेपाल जाएंगे. नेपाल में भूकंप की वजह से बिजली की समस्याएं बनी हुई हैं. नेपाल में बिजली की समस्या दूर करने के लिए नेशनल पावर ग्रिड ने मदद की पहल की है.

  यह भी पढ़े >> चक्रवात ‘कोमेन’ का कहर, बंगाल-ओडिशा में मूसलाधार बारिश

बहुत तेजी से सेना कर रही है कार्रवाई
एयर चीफ मार्शल अरूप राहा ने बताया कि भारतीय प्राधिकारियों ने बहुत तेजी से कार्रवाई की और मुझे लगता है कि जरूरत के समय नेपाल में मानवीय सहायता और राहत अभियानों में मदद करने के लिए भारत में इच्छुक प्रत्येक पक्ष सक्रिय हो गया.' उन्होंने कहा, 'आज हमने सेना, खास कर उनकी कुछ फील्ड इंजीनियर कंपनियों, रेजीमेंट की ओर से उपकरण लेकर 10 बड़े विमान भेजने की योजना बनाई है. एक विमान जा चुका है और अन्य विमान तैयार हो रहे हैं. अभियान पूरा दिन चलेगा.'

भूकंप से हिला नेपाल, देखें दर्दनाक तस्वीरें 


पाल में आए भूकंप में करीब 3 लाख लोगों के फंसे हुए हैं. 7.9 रिक्टर स्केल की तीव्रता वाले भूकंप के बाद से ही पूरे नेपाल में दहशत का माहौल है. नेपाल के राष्ट्रपति राम बरन यादव ने भूकंप के खौफ से शनिवार रात खुले आसमां के नीचे बिताई. नेपाल में आए इस भीषण भूकंप में हजारों लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है.

  यह भी पढ़े >>  प्रलय से वैज्ञानिक भी भयभीत

दहशत भरी रही पूरी रात
शनिवार सुबह 11 बजे आए भूकंप के बाद भी नेपाल की धरती लगातार भूकंप से कांप रही है. शनिवार रात भी नेपाल में भूकंप के झटके रह रहकर महसूस किए गए. नेपाल की राजधानी काठमांडू में ही मरने वालों की संख्या एक हजार के आंकड़े को छू गई है. नेपाल के विनाशकारी भूकंप में 8 भारतीयों की भी मौत हो गई. भारतीय दूतावास परिसर में एक मकान गिर गया, जिससे एक सीपीडब्ल्यूडी कर्मी मदन की बेटी की मौत हो गई. दूसरे भारतीय की मौत बिर अस्पताल में हुई.

भारत-नेपाली में भूकंप की तस्वीरें 

अब भी फंसे हैं कई भारतीय सैलानी
नेपाल में करीब 3 लाख विदेशी सैलानी फंसे हुए हैं. इनमें भारतीय भी शामिल हैं. भारतीय सैलानियों में गुजरात से सबसे ज्यादा 550 सैलानी हैं, जबकि महाराष्ट्र से 187 और कर्नाटक के 100 पर्यटक नेपाल में फंसे हुए हैं.

 यह भी पढ़े >> पिरामिड के 10 रहस्य जानकर आप रह जाएंगे हैरान
loading...

3 comments:

  1. Patanjali Yogpeeth family has taken resolution to adopt children suffering Uttarakhand disaster. We have not only thought about unsaved mothers, sisters but we are also working with complete planning for the all. Patanjali Seva Aashram has been created at Narayan Koti near gupt kashi.Just think those people would have
    suffered many nights in the terrible tragedy,

    ReplyDelete
  2. This Blog inform taht what happen in Nepal and everyone are support to Nepal for rebuilding. Patanjali Yog Peeth Nepal is also working for Nepal. For more information Please visit my site: - nepal trasdi

    ReplyDelete

Powered by Blogger.