loading...
Breaking News
recent

मृत्यु के समय होने वाली इस घटना के कारण पिछले जन्म की बात याद नहीं रहती - Mrityu ke samay yeh ghatna hone ke karan pichle janam ki bat yad nhi rhti

मृत्यु यदि बेहोश हो, तो जन्म भी बेहोश होता है।

मृत्यु के समय होने वाली इस घटना के कारण पिछले जन्म की बात याद नहीं रहती - Mrityu ke samay yeh ghatna hone ke karan pichle janam ki bat yad nhi rhti - Osho Vani On Death And Rebirth
असल में मृत्यु और जन्म दो घटनाएं नहीं हैं, एक ही घटना के दो छोर हैं। इसलिए एक ही सिक्के के दो पहलू होते हैं। अगर सिक्के का एक पहलू हाथ में आ जाए, तो दूसरा पहलू अपने-आप हाथ में आ जाएगा।

आगे पढ़े >>
loading...

No comments:

Powered by Blogger.