loading...
Breaking News
recent

राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे के बारे में सम्पूर्ण जानकारी | Rashtriya Dhwaj Tirange Ke Bare Me Sampurn Jankari In Hindi

ये आन तिरंगा है, ये शान तिरंगा है, मेरी जान तिरंगा है . तिरंगे का सफर :- यह जानना अत्‍यंत रोचक है कि हमारा राष्‍ट्रीय ध्‍वज अपने आरंभ से किन-किन परिवर्तनों से गुजरा। इसे हमारे स्‍वतंत्रता के राष्‍ट्रीय संग्राम के दौरान खोजा गया या मान्‍यता दी गई। भारतीय राष्‍ट्रीय ध्‍वज का विकास आज के इस रूप में पहुंचने के लिए अनेक दौरों में से गुजरा। एक रूप से यह राष्‍ट्र में राजनैतिक विकास को दर्शाता है। हमारे राष्‍ट्रीय ध्‍वज के विकास में कुछ ऐतिहासिक पड़ाव इस प्रकार हैं: तिरंगे का इतिहास (Tirange ka Itihas)

   
राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा (Rashtriya Dhwaj Tirange Jankari In Hindi)

(Tirange Par Nibandh In Hindi ) तिरंगे पर निबंध :-
पहला ध्‍वज 7 अगस्‍त 1906 को पारसी बागान चौक (ग्रीन पार्क) कलकत्ता में फहराया गया था जिसे अब कोलकाता कहते हैं। इस ध्‍वज को लाल, पीले और हरे रंग की क्षैतिज पट्टियों से बनाया गया था।

1906 में भारत का गैर आधिकारिक ध्‍वज
दूसरा ध्‍वज को पेरिस में मैडम कामा और 1907 में उनके साथ निर्वासित किए गए कुछ क्रांतिकारियों द्वारा फहराया गया था (कुछ के अनुसार 1905 में)। यह भी पहले ध्‍वज के समान था सिवाय इसके कि इसमें सबसे ऊपरी की पट्टी पर केवल एक कमल था किंतु सात तारे सप्‍तऋषि को दर्शाते हैं। यह ध्‍वज बर्लिन में हुए समाजवादी सम्‍मेलन में भी प्रदर्शित किया गया था।

1907 में भीका‍जीकामा द्वारा फहराया गया बर्लिन समिति का ध्‍वज
तीसरा ध्‍वज 1917 में आया जब हमारे राजनैतिक संघर्ष ने एक निश्चित मोड लिया। डॉ. एनी बीसेंट और लोकमान्‍य तिलक ने घरेलू शासन आंदोलन के दौरान इसे फहराया। इस ध्‍वज में 5 लाल और 4 हरी क्षैतिज पट्टियां एक के बाद एक और सप्‍तऋषि के अभिविन्‍यास में इस पर बने सात सितारे थे। बांयी और ऊपरी किनारे पर (खंभे की ओर) यूनियन जैक था। एक कोने में सफेद अर्धचंद्र और सितारा भी था।

इस ध्‍वज को 1917 में गघरेलू शासन आंदोलन के दौरान अपनाया गया
चौथा ध्‍वज अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सत्र के दौरान जो 1921 में बेजवाड़ा (अब विजयवाड़ा) में किया गया यहां आंध्र प्रदेश के एक युवक ने एक झंडा बनाया और गांधी जी को दिया। यह दो रंगों का बना था। लाल और हरा रंग जो दो प्रमुख समुदायों अर्थात हिन्‍दू और मुस्लिम का प्रतिनिधित्‍व करता है। गांधी जी ने सुझाव दिया कि भारत के शेष समुदाय का प्रतिनिधित्‍व करने के लिए इसमें एक सफेद पट्टी और राष्‍ट्र की प्रगति का संकेत देने के लिए एक चलता हुआ चरखा होना चाहिए।

इस ध्‍वज को 1921 में गैर अधिकारिक रूप से अपनाया गया
पांचवा ध्‍वज वर्ष 1931 ध्‍वज के इतिहास में एक यादगार वर्ष है। तिरंगे ध्‍वज को हमारे राष्‍ट्रीय ध्‍वज के रूप में अपनाने के लिए एक प्रस्‍ताव पारित किया गया । यह ध्‍वज जो वर्तमान स्‍वरूप का पूर्वज है, केसरिया, सफेद और मध्‍य में गांधी जी के चलते हुए चरखे के साथ था। तथापि यह स्‍पष्‍ट रूप से बताया गया इसका कोई साम्‍प्रदायिक महत्‍व नहीं था और इसकी व्‍याख्‍या इस प्रकार की जानी थी।

इस ध्‍वज को 1931 में अपनाया गया। यह ध्‍वज भारतीय राष्‍ट्रीय सेना का संग्राम चिन्‍ह भी था।
छठा- राष्ट्रीय ध्वज 22 जुलाई 1947 को संविधान सभा ने इसे मुक्‍त भारतीय राष्‍ट्रीय ध्‍वज के रूप में अपनाया। स्‍वतंत्रता मिलने के बाद इसके रंग और उनका महत्‍व बना रहा। केवल ध्‍वज में चलते हुए चरखे के स्‍थान पर सम्राट अशोक के धर्म चक्र को दिखाया गया। इस प्रकार कांग्रेस पार्टी का तिरंगा ध्‍वज अंतत: स्‍वतंत्र भारत का तिरंगा ध्‍वज बना।

भारत का वर्तमान तिरंगा ध्‍वज

 महात्‍मा गांधी- “सभी राष्‍ट्रों के लिए एक ध्‍वज होना अनिवार्य है। लाखों लोगों ने इस पर अपनी जान न्‍यौछावर की है। यह एक प्रकार की पूजा है, जिसे नष्‍ट करना पाप होगा। ध्‍वज एक आदर्श का प्रतिनिधित्‍व करता है। यूनियन जैक अंग्रेजों के मन में भावनाएं जगाता है जिसकी शक्ति को मापना कठिन है। अमेरिकी नागरिकों के लिए ध्‍वज पर बने सितारे और पट्टियों का अर्थ उनकी दुनिया है। इस्‍लाम धर्म में सितारे और अर्ध चन्‍द्र का होना सर्वोत्तम वीरता का आहवान करता है।”  “हमारे लिए यह अनिवार्य होगा कि हम भारतीय मुस्लिम, ईसाई, ज्‍यूस, पारसी और अन्‍य सभी, जिनके लिए भारत एक घर है, एक ही ध्‍वज को मान्‍यता दें और इसके लिए मर मिटें।”

 कैस मिला हमें हमारा तिरंगा (Tirange ki Jankari और Tirange ki Khoj In Hindi )

 सन्‌ 1921 में गांधी जी द्वारा राष्ट्रीय ध्वज के लिए इस झंडे की पेशकश की गई।
* सन्‌ 1931 में कांग्रेस द्वारा राष्ट्रीय ध्वज के लिए पारित स्वराज झंडा।
* सन्‌ 1947 से इस ध्वज को स्वतंत्र भारत का राष्ट्रीय ध्वज स्वीकार किया गया।
  • पं. नेहरू ने बड़ा मार्मिक भाषण भी दिया तथा सभी माननीय सदस्यों के समक्ष दो स्वरूप- एक रेशमी खादी व दूसरा सूती खादी से बना- प्रस्तुत किए। सभी ने करतल ध्वनि के साथ स्वतंत्र भारत के राष्ट्रध्वज को स्वीकार किया।
  • इससे पहले 23 जून, 1947 को ध्वज को आकार देने के लिए एक अस्थायी समिति का गठन हुआ, जिसके अध्यक्ष थे डॉ. राजेन्द्रप्रसाद तथा समिति में उनके साथ थे मौलाना अबुल कलाम आजाद, के.एम. पणिक्कर, श्रीमती सरोजिनी नायडू, के.एम. मुंशी, चक्रवर्ती राजगोपालाचारी और डॉ. बी.आर. आम्बेडकर। विस्तृत विचार-विमर्श के बाद स्पष्ट निर्णय लिया गया।
  • रंग-रूप, आकार, मान-सम्मान, फहराने आदि के बारे में मानक तय किए गए। अंततः 18 जुलाई 1947 को अंतिम निर्णय हो गया और संविधान सभा में स्वीकृति प्राप्ति हेतु पं. जवाहरलाल नेहरू को अधिकृत किया, 22 जुलाई 1947 को संविधान सभा में एक आवाज में सभी ने राष्ट्रीय ध्वज को अपना लिया।
  • 21 फीट लंबाई और 14 फीट चौड़ाई। यह राष्ट्रध्वज का सबसे बड़ा आकार है जो मानक आकारों में शामिल है लेकिन उस समय इस आकार के ध्वज को कहीं फहराया नहीं गया था। क्योंकि आजादी के समय न तो इतने विशाल भवन थे और न इतना बड़ा कहीं दंड था कि इस ध्वज को फहराया जा सके।
14 अगस्त 1947 की रात 10.45 पर काउंसिल हाउस के सेंट्रल हॉल में श्रीमती सुचेता कृपलानी के नेतृत्व में ‘वंदे मातरम्‌’ के गायन से कार्यक्रम शुरू हुआ।

संविधान सभा के अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र प्रसाद व पं. जवाहरलाल नेहरू के भाषण हुए। इसके पश्चात्‌ श्रीमती हंसाबेन मेहता ने अध्यक्ष राजेन्द्रप्रसाद को मेरा सिल्क वाला स्वरूप सौंपा और कहा कि आजाद भारत में पहला राष्ट्रध्वज जो इस सदन में फहराया जाएगा, वह भारतीय महिलाओं की ओर से इस राष्ट्र को एक उपहार है। सभी लोगों के समक्ष यह पहला प्रदर्शन था। ‘सारे जहाँ से अच्छा’ व ‘जन-गण-मन’ के सामूहिक गान के साथ यह समारोह सम्पन्न हुआ।
पंडित नेहरू ने ध्वज के मानक बताए, जिन्हें जानना जरूरी है (जिनका उल्लेख भारतीय मानक संस्थान के क्रमांक आई.एस.आई.-1-1951, संशोधन 1968 में किया गया)। उन्होंने कहा भारत का राष्ट्रध्वज समतल तिरंगा होगा। यह आयताकार होकर इसकी लंबाई-चौड़ाई का अनुपात 2:3 होगा, तीन रंगों की समान आड़ी पट्टिका होगी। सबसे ऊपर केसरिया, मध्य में सफेद तथा नीचे हरे रंग की पट्टी होगी। सफेद रंग की पट्टी पर मध्य में सारनाथ स्थित अशोक स्तंभ का चौबीस शलाकाओं वाला चक्र होगा, जिसका व्यास सफेद रंग की पट्टी की चौड़ाई के बराबर होगा।
निर्माण में जो वस्त्र उपयोग में लाया जाएगा, वह खादी का होगा तथा यह सूती, ऊनी या रेशमी भी हो सकता है, लेकिन शर्त यह होगी कि सूत हाथ से काता जाएगा एवं हाथ से बुना जाएगा। इसमें हथकरघा सम्मिलित है। सिलाई के लिए केवल खादी के धागों का ही प्रयोग होगा। नियमानुसार खादी के एक वर्ग फीट कपड़े का वजन 205 ग्राम होना चाहिए।
निर्माण के लिए हाथ से बनी खादी का उत्पादन स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के एक समूह द्वारा पूरे देश में मात्र ‘गरग’ गांव में किया जाता है जो उत्तरी कर्नाटक के धारवाड़ जिले में बेंगलूर-पूना रोड पर स्थित है। इसकी स्थापना 1954 में हुई, परन्तु अब निर्माण क्रमश: ऑर्डिनेंस क्योरिंग फैक्टरी शाहजहांपुर, खादी ग्रामोद्योग आयोग मुम्बई एवं खादी ग्रामोद्योग आयोग दिल्ली में होने लगा है। निजी निर्माताओं द्वारा भी राष्ट्रध्वज का निर्माण किए जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं है, लेकिन गौरव व गरिमा को दृष्टिगत रखते हुए यह जरूरी है कि ध्वज पर आई.एस.आई. (भारतीय मानक संस्थान) की मुहर लगी हो।

 ध्‍वज के रंग :- (Tirange ke Rang ka Matlab )
  • भारत के राष्ट्री य ध्विज की ऊपरी पट्टी में केसरिया रंग है जो देश की शक्ति और साहस को दर्शाता है। बीच की पट्टी का श्वेत धर्म चक्र के साथ शांति और सत्य का प्रतीक है। निचली हरी पट्टी उर्वरता, वृद्धि और भूमि की पवित्रता को दर्शाती है। सफ़ेद पट्टी पर बने चक्र को धर्म चक्र कहते हैं। इस धर्म चक्र को विधि का चक्र कहते हैं जो तृतीय शताब्दीईसा पूर्व मौर्य सम्राट अशोक द्वारा बनाए गए सारनाथ मंदिर से लिया गया है। इस चक्र को प्रदर्शित करने का आशय यह है कि जीवन गति‍शील है और रुकने का अर्थ मृत्यु है।
चक्र
  • इस धर्म चक्र को विधि का चक्र कहते हैं जो तीसरी शताब्‍दी ईसा पूर्व मौर्य सम्राट अशोक द्वारा बनाए गए सारनाथ मंदिर से लिया गया है। इस चक्र को प्रदर्शित करने का आशय यह है कि जीवन गति‍शील है और रुकने का अर्थ मृत्‍यु है।
ध्‍वज संहिता
  • 26 जनवरी 2002 को भारतीय ध्‍वज संहिता में संशोधन किया गया और स्‍वतंत्रता के कई वर्ष बाद भारत के नागरिकों को अपने घरों, कार्यालयों और फैक्‍ट‍री में न केवल राष्‍ट्रीय दिवसों पर, बल्कि किसी भी दिन बिना किसी रुकावट के फहराने की अनुमति मिल गई। अब भारतीय नागरिक राष्‍ट्रीय झंडे को शान से कहीं भी और किसी भी समय फहरा सकते है। बशर्ते कि वे ध्‍वज की संहिता का कठोरता पूर्वक पालन करें और तिरंगे की शान में कोई कमी न आने दें। सुविधा की दृष्टि से भारतीय ध्‍वज संहिता, 2002 को तीन भागों में बांटा गया है। संहिता के पहले भाग में राष्‍ट्रीय ध्‍वज का सामान्‍य विवरण है। संहिता के दूसरे भाग में जनता, निजी संगठनों, शैक्षिक संस्‍थानों आदि के सदस्‍यों द्वारा राष्‍ट्रीय ध्‍वज के प्रदर्शन के विषय में बताया गया है। संहिता का तीसरा भाग केन्‍द्रीय और राज्‍य सरकारों तथा उनके संगठनों और अभिकरणों द्वारा राष्‍ट्रीय ध्‍वज के प्रदर्शन के विषय में जानकारी देता है।
विशेष परिस्थिति- राष्ट्रीय उल्लास के पर्वों पर अर्थात्‌ 15 अगस्त, 26 जनवरी के अवसर पर या किसी राष्ट्र विभूति का निधन होता है तथा राष्ट्रीय शोक घोषित होता है, तब ध्वज को झुका दिया जाना चाहिए, लेकिन जहां जिस भवन में उस राष्ट्र विभूति का पार्थिव शरीर रखा है, वहां उस भवन का ध्वज झुका रहेगा तथा जैसे ही पार्थिव शरीर अंत्येष्टि के लिए बाहर निकालते हैं, वैसे ही ध्वज को पूरी ऊंचाई तक फहरा दिया जाएगा।
शवों पर लपेटना- राष्ट्र पर प्राण न्योछावर करने वाले फौजी रणबांकुरों के शवों पर एवं राष्ट्र की महान विभूतियों के शवों पर भी ध्वज को उनकी शहादत को सम्मान देने के लिए लपेटा जाता है, तब केसरिया पट्टी सिर तरफ एवं हरी पट्टी पेरों की तरफ होना चाहिए, न कि सिर से लेकर पैर तक सफेद पट्टी चक्र सहित आए और केसरिया और हरी पट्टी दाएं-बाएं हों। याद रहे शहीद या विशिष्ट व्यक्ति के शव के साथ ध्वज को जलाया या दफनाया नहीं जाए, बल्कि मुखाग्नि क्रिया से पूर्व या कब्र में शरीर रखने से पूर्व ध्वज को हटा लिया जाए।
नष्टीकरण- अमानक, बदरंग कटी-फटी स्थिति वाला ध्वज का स्वरूप फहराने योग्य नहीं होता। ऐसा करना ध्वज का अपमान होकर अपराध है, अतः वक्त की मार से जब कभी ध्वज ऐसी स्थिति हो जाए तो गोपनीय तरीके से सम्मान के साथ अग्नि प्रवेश दिला दिया जाता है। या वजन/रेत बांधकर पवित्र नदी में जल समाधि दे दी जाती है। यही प्रकिया पार्थिव शरीरों पर से उतारे गए ध्वजों के साथ भी किया जाता है।

 tirange के लिए चित्र परिणाम  

 तिरंगे के रखरखाव का नियम :- ( Tirange ke Niyam )
  • फ्लैग कोड ऑफ इंडिया के तहत झंडे को कभी भी ज़मीन पर नहीं रखा जाएगा।
  • उसे कभी पानी में नहीं डुबोया जाएगा और किसी भी तरह नुक़सान नहीं पहुँचाया जाएगा। यह नियम भारतीय संविधान के लिए भी लागू होता है।
  • क़ानूनी जानकार डी. बी. गोस्वामी ने बताया कि प्रिवेंशन ऑफ इन्सल्ट टु नैशनल ऑनर ऐक्ट-1971 की धारा-2 के मुताबिक, फ्लैग और संविधान की इन्सल्ट करने वालों के ख़िलाफ़ सख्त क़ानून हैं।
  • अगर कोई शख़्स झंडे को किसी के आगे झुका देता हो, उसे कपड़ा बना देता हो, मूर्ति में लपेट देता हो या फिर किसी मृत व्यक्ति (शहीद हुए आर्म्ड फोर्सेज के जवानों के अलावा) के शव पर डालता हो, तो इसे तिरंगे की इन्सल्ट माना जाएगा।
  • तिरंगे की यूनिफॉर्म बनाकर पहन लेना भी ग़लत है।
  • अगर कोई शख़्स कमर के नीचे तिरंगा बनाकर कोई कपड़ा पहनता हो तो यह भी तिरंगे का अपमान है।
  • तिरंगे को अंडरगार्मेंट्स, रुमाल या कुशन आदि बनाकर भी इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।
 तिरंगे को फहराने के नियम :-

 लैग कोड में आम नागरिकों को सिर्फ़ स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर तिरंगा फहराने की छूट थी लेकिन 26 जनवरी 2002 को सरकार ने इंडियन फ्लैग कोड में संशोधन किया और कहा कि कोई भी नागरिक किसी भी दिन झंडा फहरा सकता है, लेकिन वह फ्लैग कोड का पालन करेगा।
  • 2001 में इंडस्ट्रियलिस्ट नवीन जिंदल ने कोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा था कि नागरिकों को आम दिनों में भी झंडा फहराने का अधिकार मिलना चाहिए। कोर्ट ने नवीन के पक्ष में ऑर्डर दिया और सरकार से कहा कि वह इस मामले को देखे। केंद्र सरकार ने 26 जनवरी 2002 को झंडा फहराने के नियमों में बदलाव किया और इस तरह हर नागरिक को किसी भी दिन झंडा फहराने की इजाजत मिल गई।
 1968 में तिरंगा निर्माण के मानक तय किए गए। ये नियम अत्यंत कड़े हैं। केवल खादी या हाथ से काता गया कपड़ा ही झंडा बनाने के लिए उपयोग किया जाता। कपड़ा बुनने से लेकर झंडा बनने तक की प्रक्रिया में कई बार इसकी टेस्टिंग की जाती है। खादी बनाने में केवल कपास, रेशम और ऊन का प्रयोग किया जाता है। इसकी बुनाई सामन्य बुनाई से भिन्न होती है। ये बुनाई बेहद दुर्लभ होती है। इसे बहुत कम लोग जानते हैं। धारवाण के निकट गदग और कर्नाटक के बागलकोट में ही तिरंगे की खादी की बुनाई की जाती है। जबकी ”’हुबली”’ एक मात्र लाइसेंस प्राप्त संस्थान है जहां से झंडा उत्पादन व आपूर्ति की जाती है। बुनाई से लेकर बाजार में पहुंचने तक कई बार बीआईएस प्रयोगशालाओं में इसका परीक्षण होता है।बुनाई के बाद सामग्री को परीक्षण के लिए भेजा जाता है। कड़े गुणवत्ता परीक्षण के बाद उसे वापस कारखाने भेज दिया जाता है। इसके बाद उसे तीन रंगो में रंगा जाता है। केंद्र में अशोक चक्र को काढ़ा जाता है। उसके बाद इसे फिर परीक्षण के लिए भेजा जाता है। बीआईएस झंडे की जांच करता है इसके बाद ही इसे बाजार में बेचने के लिए भेजा जाता है।
 यह भी पढ़े  >>पृथ्वीराज चौहान की जीवनी और इतिहास

 सबसे बड़ा तिरंगा :-

 10 मार्च 2014 को दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित सेंट्रल पार्क में देश का सबसे बड़ा तिरंगा फहराया गया

 60 फुट चौड़े और 90 फुट लंबे तिरंगे को 207 फुट ऊंचे पोल पर कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल ने फहराया। झंडे का वजन 35 किलोग्राम है। फ्लैग फाउंडेशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में जिंदल ने कहा, ‘मैंने भारत का सबसे बड़ा झंडा फहराने का सपना देखा था। सरकारी विभागों से अनुमति मिलने में देरी के कारण सात साल बाद यह सपना पूरा हुआ।’


21 फीट लंबाई और 14 फीट चौड़ाई के झंडे पूरे देश में केवल तीन किलों के ऊपर फहराए जाते हैं… मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में स्थित किला उनमें से एक है। इसके अतरिक्त कर्नाटक का नारगुंड किले और महाराष्ट्र का पनहाला किले पर भी सबसे लम्बे झंडे को फहराया जाता है। भारत में सालाना लगभग चार करोड़ झंडे बिकते हैं। भारत में सबसे बड़ा झंडा (6.3 by 4.2 मी.) राज्य प्रशासनिक मुख्यालय, महाराष्ट्र के मंत्रालय भवन से फहराया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस पर केवल कागज से बने राष्ट्रीय ध्वज का प्रयोग हो :- भारतीय ध्वज संहिता के प्रावधान के अनुरूप नागरिकों एवं बच्चों से शासन की अपील है कि वे स्वतंत्रता दिवस पर केवल कागज के बने राष्ट्रीय ध्वज का ही उपयोग करें।  साथ ही कागज के झंडों को समारोह संपन्न होने के बाद न विकृत किया जाए और न ही जमीन पर फेंका जाए। ऐसे झंडों का निपटान उनकी मर्यादा के अनुरूप ही किया जाना चाहिए।  आमजन से आग्रह है कि वे स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्लास्टिक से बने झंडों का उपयोग बिलकुल ही न करें, क्योंकि प्लास्टिक से बने झंडे लंबे समय तक नष्ट नहीं होते हैं और जैविक रूप से अपघट्य न होने के कारण ये वातावरण के लिए हानिकारक होते हैं।
 
(Tirange par kavita or Geet ) कैसे रचा गया झंडा गीत… विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झंडा ऊंचा रहे हमारा

झंडा गीत को 1938 के कांग्रेस अधिवेशन में स्वीकार किया गया था। इस गीत की रचना करने वाले श्यामलाल गुप्त पार्षद कानपुर में नरवल के रहने वाले थे। उनका जन्म 16 सितंबर 1893 में हुआ था। गरीबी में भी उन्होंने उच्च शिक्षा हासिल की थी। उनमें देशभक्ति का जज्बा था, जिसे वह अपनी कविताओं में व्यक्त करते थे।
कांग्रेस का सक्रिय कार्यकर्ता रहने के बाद वह 1923 में फतेहपुर के जिला कांग्रेस अध्यक्ष बने। वह सचिव नाम का अखबार भी निकालते थे। जब यह लगभग तय हो गया था कि अब आजादी मिलने ही वाली है, उस वक्त कांग्रेस ने देश के झंडे (तिरंगा) का चयन कर लिया था। लेकिन एक झंडा गीत की जरूरत महसूस की जा रही थी।
इधर, गणेश शंकर विद्यार्थी पार्षद जी के काव्य कौशल के कायल थे। विद्यार्थी जी ने पार्षद जी से झंडा गीत लिखने का अनुरोध किया। पार्षद जी कई दिनों तक कोशिश करते रहे, पर वह झंडा गीत नहीं लिख पाए। जब विद्यार्थीजी ने पार्षदजी से साफ-साफ कह दिया कि मुझे हर हाल में कल सुबह तक झंडा गीत चाहिए, तो वह रात में कागज कलम लेकर बैठ गए।
आधी रात तक उन्होंने झंडे पर एक गीत तो लिखा, लेकिन वह उन्हें जमा नहीं। निराश होकर दो बजे जब वह सोने के लिए लेटे, अचानक उनके भीतर भाव उमडने लगे। वह उठकर लिखने बैठ गए। पार्षद जी को लगा जैसे कि कलम अपने आप चल रही हो और भारत माता उनसे गीत लिखा रही हों। यह गीत था- विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झंडा ऊंचा रहे हमारा। यह गीत लिखकर उन्हें बहुत संतोष मिला।
सुबह होते ही पार्षद जी ने यह गीत विद्यार्थी जी को भेज दिया, जो उन्हें बहुत पसंद आया। जब यह गीत महात्मा गांधी के पास गया, तो उन्होंने गीत को छोटा करने को कहा। आखिर में, 1938 में कांग्रेस के अधिवेशन में नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने इसे देश के झंडा गीत की स्वीकृति दे दी। यह हरिपुरा का ऐतिहासिक अधिवेशन था। नेताजी ने झंडारोहण किया और वहां मौजूद करीब पांच हजार लोगों ने झंडागीत को एक सुर में गाया।

तिरंगे की अलग-अलग कहानियां :-

जयपुर में सबसे बडा राष्ट्रीय ध्वज
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और फ्लैग फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष सांसद नवीन जिंदल ने  24 अक्टूबर 2011 को जयपुर के सेंट्रल पार्क में सबसे बड़ा ध्वज (72×48 फुट आकार का) को दो सौ छह फुट ऊंचे राष्ट्रीय ध्वजस्तंभ को स्थापित किया गया। फ्लैग फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष सांसद नवीन जिंदल ने कहा कि राष्ट्रीयता को बढ़ावा देने के लिए सबसे बडा और सबसे ऊंचा ध्वज लगाने का फैसला लिया गया। उन्होंने कहा कि सबसे ऊंचा और बडा राष्ट्रीय ध्वज जयपुर आने वाले देशी और विदेशी पर्यटकों के लिए तथा विशेष रूप से बच्चों के लिए आकर्षण का केन्द्र रहेगा। जिंदल के अनुसार, फाउडेंशन की ओर से ब्रह्मसरोवर (कुरुक्षेत्र), लाडवा, हिसार, सोनीपत, कैथल (हरियाणा), अंगुल (उड़ीसा), नेशनल मिलिटरी म्यूजियम (बेंगलुरु) और जिंदल स्टील एंड पॉवर लिमिटेड विजयनगर (कर्नाटक) में दो सौ छह फुट ऊंचे ध्वज स्तंभ स्थापित किए जा चुके हैं और त्रिवेन्द्रम में इस पर काम चल रहा है। फ्लैग फाउंडेशन ऑफ इंडिया और जयपुर विकास प्राद्यिकरण की ओर से स्थापित स्मरणार्थक राष्ट्रीय ध्वज को 206 छह फुट ऊंचे विशेष ध्वज स्तंभ पर स्थापित किया गया है और यह राष्ट्रीय ध्वज निटेड पोलिस्टर से बना हुआ है।

वाराणसी- तिरंगे से चल रहा है घर का चूल्हा… उत्तरप्रदेश के वाराणसी के लल्लापुरा निवासी मुहम्मद वसी के सामने अब न तो रोजगार का संकट है और न ही पहचान की। यहां साड़ी उद्योग में आई मंदी के कारण मुहम्मद वसी का परिवार बेरोजगारी की मार झेल रहा था, लेकिन अब वे तिरंगा बुन रहे हैं, जिससे उसकी बेरोजगारी तो दूर हुई ही, साथ ही इनकी अलग पहचान भी बनी है। देशभक्ति के साथ रोजगार को जोड़ने वाले अकेले केवल वसी का ही परिवार नहीं है बल्कि वाराणसी में ऐसे लगभग दस परिवार हैं, जिनके घर का चूल्हा इसी तिरंगे से चल रहा है। रेशम पर बनने वाला यह तिरंगा अब सभी वर्ग के लोगों के लिए बनने लगा है। कागज के तिरंगे की जगह अब यह तिरंगा दुपट्टे के रूप में तैयार किए जा रहे हैं। जानकारी के अनुसार मुहम्मद वसी अपने हैंडलूम पर केवल भारत में बने रेशम से ही तिरंगा झंडे बुनते हैं, क्योंकि वसी महसूस करते हैं कि तिरंगा तैयार करना उनके रोजगार का जरिया जरूर है, लेकिन यह भारत की शान का भी प्रतीक है।

पटना- 47 बरस से एक ही परिवार बांध रहा है तिरंगा… बिहार में राजधानी पटना के गांधी मैदान में गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर होने वाले ध्वजारोहण में एक परिवार का खास योगदान है। यह परिवार पिछले 47 साल से ध्वजारोहण के लिए तिरंगा बांधता आ रहा है। बिहार पुलिस के तत्कालीन हवलदार मुनेश्वर दास ने ध्वज बांधने का कार्य वर्ष 1965 में शुरू किया था और अपने जीवन के अंतिम क्षण तक वह इसे करते रहे। मुनेश्वर ने वर्ष 2010 तक स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर गांधी मैदान में होने वाले मुख्य राजकीय समारोह स्थल पर राष्ट्रीय ध्वज बांधने की जिम्मेदारी निभाई। दास की मृत्यु पिछले वर्ष 15 जनवरी हो गई थी। अब यह जिम्मेदारी उनके भतीजे बिन्दा दास निभा रहे हैं। अधिकारियों का भी मानना है कि यदि मुनेश्वर झंडा न बांधे तो काम अधूरा ही माना जाता था। एक अधिकारी के अनुसार, पिछले वर्ष गणतंत्र दिवस से पहले मुनेश्वर अपनी बीमारी के इलाज के लिए राज्य से बाहर गए थे, लेकिन मौत से जंग वह जीत नहीं पाए और 26 जनवरी से पहले ही उनकी मौत हो गई। समस्तीपुर जिले के पाहेपुर गांव निवासी मुनेश्वर ने बिहार पुलिस में सिपाही पद से अपनी नौकरी शुरू की थी। उत्कृष्ट सेवा के लिए उन्हें दो बार राष्ट्रपति पदक से भी सम्मानित किया गया था।

कुछ अलग है जयपुर के इस परिवार के लिए तिरंगा फहराने का महत्त्व… राजस्थान के गुलाबी नगर में एक परिवार से तिरंगे का रिश्ता ही कुछ खास है।कुछ अलग है इस परिवार और तिरंगे की कहानी और कुछ अलग है इस परिवार के लिए तिरंगा फहराने का महत्त्व। जयपुर में रहने वाला यह परिवार अटल परिवार के नाम से जाना जाता है,  इस परिवार में है एक खास तिरंगा झंडा।वैसे तो इस तिरंगे में भी लाल, हरे और सफेद रंग की तीन पट्टियां और बीच में अशोक चक्र है, फिर भी यह तिरंगा अपने आपमें कुछ खास महत्व रखता है। इस तिरंगे से जुड़ी है बहादुरी की एक कहानी।यह कहानी जयकुमार अटल और तिरंगे की।यह कहानी है वीरता की एक मिसाल की और यह कहानी है सच्ची देशभक्ति की। बात 1971 की है, जब भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध छिड़ा हुआ था।उस समय जयपुर के जय कुमार अटल पकिस्तान में भारत के हाई कमिश्नर के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे थे।यह सभी जानते हैं कि इस युद्ध में पाकिस्तान को बुरी तरह हार का मुंह देखना पड़ा था। अपनी हार से पाकिस्तान पूरी तरह बौखला उठा और उसी बौखलाहट में कुछ पाकिस्तानियों ने वहां तिरंगे को जलाने का प्रयास किया।जब जय कुमार अटल ने यह देखा तो अपनी वीरता का परिचय देते हुए उन्होंने तिरंगा उन पाकिस्तानियों से छीन लिया और उसे लेकर भारत आ गए। तिरंगा लेकर जब वे भारत पहुंचे तो सर्व प्रथम उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी से मुलाक़ात की और तिरंगा उन्हें सौंपना चाहा लेकिन श्रीमती गांधी ने तिरंगा लेने से इनकार कर दिया और तिरंगा जय कुमार को अपने साथ ले जाने को कहा। श्रीमती गांधी ने तिरंगा जयकुमार को वापस करते हुए कहा कि इस तिरंगे की लाज आपने बचाई है, इसलिए आज से यह तिरंगा आपके परिवार के पास ही सुरक्षित रहेगा, साथ ही हर स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर आपके परिवार में ही इसे फहराया जाएगा। तब से जयपुर के अटल परिवार में स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस दोनों ही एक त्यौहार की तरह मनाये जाते हैं जिसमें परिवार के सभी सदस्य चाहे वे जयपुर से बाहर ही क्यों न बसते हों, एक साथ इस तिरंगे को फहराते हैं।यहां तक कि जय कुमार अटल की पोती देविका तनखा जो US में रहती हैं, वे भी इस खास पर्व पर जयपुर पहुंच जाती है।

दुनिया के सात महाद्वीपों के सात सर्वोच्च शिखरों पर तिरंगा लहराने वाली महिलामहिला साहस की अद्वितीय मिसाल बन चुकीं जमशेदपुर की महिला पर्वतारोही प्रेमलता अग्रवाल ने दुनिया के सात महाद्वीपों के सर्वोच्च शिखर पर तिरंगा लहराने का अनूठा कारनामा कर दिखाया है और यह उपलब्धि हासिल करने वाली वह पहली भारतीय महिला हैं। 50 वर्षीय और दो बेटियों की मां प्रेमलता ने गत 23 मई 2013 को उत्तरी अमेरिका के अलास्का स्थित सर्वोच्च शिखर माउंट मैककिनले (6194मी) को फतह किया और इसके साथ ही उन्होंने सात महाद्वीपों की सबसे ऊंची चोटियों पर पहुंचने का अद्भुत रिकार्ड बना दिया।
यूं शुरू हुआ सफर… प्रेमलता का सात महाद्वीपों की शीर्ष चोटियों को फतह करने का रोमांचक सफर छह जून 2008 को अफ्रीका में किलिमंजारो (5895 मीटर) पर जीत हासिल करने के साथ शुरू हुआ था। प्रेमलता ने फिर 20 मई 2011 को एशिया और दुनिया के सर्वोच्च शिखर माउंट एवरेस्ट (8848 मी) को फतह किया। पद्मश्री से सम्मानित प्रेमलता ने 10 फरवरी 2012 को दक्षिण अमेरिका के एकोनकागुआ (6962 मी), 12 अगस्त 2012 को यूरोप के एल्ब्रास (5642 मी), 22 अक्तूबर 2012 को ऑस्ट्रेलिया ओसनिवा के कार्सटेंस पिरामिड (4884 मी), 5 जनवरी 2013 को आंटार्टिका के विनसन मैसिफ (4892 मी) और 23 मई 2013 को उत्तरी अमेरिका के माउंट मैककिनले (6194 मी) को फतह किया।

 15 अगस्त 2012- सुनीता विलियम्‍स ने अंतरिक्ष में फहराया तिरंगा

 पूरा देश आजादी का जश्न मना रहा है. सिर्फ देश के कोने कोने में ही नहीं, बल्कि अंतरिक्ष में भी तिरंगा लहरा रहा है. जी हां, धरती से लाखों किलोमीटर दूर अंतरिक्ष में सुनीता विलियम्स ने स्पेस स्टेशन में आजादी का जश्न मनाया. जब देश अपने लोकतंत्र का सबसे बड़ा त्योहार मना रहा है तब हिंदुस्तान की एक बेटी अंतरिक्ष से बधाई दे रही है. सुनीता विलियम्स ने इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में तिरंगा लगाकर आजादी का जश्न मनाया. अंतरिक्ष स्टेशन से सुनीता धरती को देख रही हैं और धरती पर उन्हें तलाश है भारत की. सुनी‍ता ने कहा धरती यहां से बहुत खूबसूरत दिखाई पड़ रही है, फिलहाल बादल हैं. समंदर भी दिखाई पड़ रहे हैं. लेकिन अफसोस यहां से भारत नहीं दिखाई पड़ रहा है.

कुछ देश देशभक्ति गीतों की पक्तियां :-

‘चल चल रे नौजवान…

‘आज हिमालय की चोटी से फिर हमने ललकारा है……

‘ऐ मेरे वतन के लोगो….

‘वंदे मातरम्..

‘ये देश है वीर जवानो का

‘वतन पे जो फिदा होगा अमर वो नौजवान होगा

उस मुल्क की सरहद को कोई छू नही सकता जिस मुल्क की सरहद की निगाहबान है आंखे

  मेरे देशप्रेमियो आपस में प्रेम करो देशप्रेमियो
 
‘मेरा रंग दे बसंती चोला‘,

 ‘ऐ वतन ऐ वतन तुझको मेरी कसम

‘छोडो कल की बातें कल की बात पुरानी‘ 

‘कर चले हम फिदा जानों तन….. 

‘जहां डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा…..

‘नन्हा मुन्ना राही हूं देश का सिपाही हूं‘,

‘है प्रीत जहां की रीत सदा मैं गीत वहां के गाता हूं‘,

‘मेरे देश की धरती सोना उगले‘,

‘ हर करम अपना करेगे ऐ वतन तेरे लिए‘,

‘ये दुनिया एक दुल्हन के माथे की बिंदिया ये मेरा इंडिया‘, 

भारतीय ध्वज, स्वतंत्र भारत की पहली डाक टिकट, 21 नवम्बर 1947 को विदेशी पत्राचार के लिए जारी की गयी।

loading...

No comments:

Powered by Blogger.