loading...
Breaking News
recent

यहाँ होती है कंस की पूजा | Yha Hoti Hai Kans Ki Pooja In Hindi

मथुरा का राजा कंस एक बुरा शासक था, प्रजा पर अत्याचार करना और विरोधियों का दमन करना यही उसकी फितरत थी। वह पूरी तरह आत्मकेन्द्रित था जिसके चलते उसने अपने पिता, सगी बहन और बहनोई को भी बंधी बनाकर रखा।सत्ता हासिल करने के लिए उसने अपने पिता को बंधी बनाया था। देवकी और वसुदेव के विवाह के समय हुई भविष्यवाणी के अनुसार देवकी की आठवीं संतान उसकी मृत्यु का कारण बनने वाली थी इसलिए उसने अपनी बहन जिसे वो बहुत प्रेम करता था, उसे और उसके पति को अपनी कैद में रखा।लेकिन होना तो वहीं था जो नियती ने पहले ही निर्धारित किया हुआ था।
Katha Ek Kans Ki :

 kans के लिए चित्र परिणाम  
Yha Hoti Hai Kans Ki Pooja In Hindi

यह भी पढ़े >>निधिवन का रहस्य मंदिर में रोज आते है श्री कृष्ण
 देवकी और वसुदेव की आठवीं संतान के रूप में भगवान विष्णु ने अवतार लिया और कृष्ण के इस मोहक अवतार में उन्होंने दुराचारी कंस का अंत कियाकंस के साथ अत्याचारी, दुराचारी, शोषक जैसे विशेषण जुड़े हुए हैं लेकिन क्या आप जानते हैं इन सब के बावजूद कंस की पूजा की जाती है।
यह भी पढ़े >>हनुमान जी से जुड़े पांच चौकाने वाले रहस्य
अब आप सोच रहे होंगे इतिहास जिसे क्रूर मानता है, लोग इसकी अराधना कैसे कर सकते हैं?

आपको बता दें कि लखनऊ से हरदोई की ओर जाते हुए एक गांव में आपको एक बड़ी मूर्ति नजर आएगी। पहली बार में तो आप यह अंदाजा भी नहीं लगा पाएंगे कि इतनी विशालकाय मूर्ति दुराचारी कंस की भी हो सकती है।स्थानीय लोगों का कहना है कि पीढ़ियों से उनके पूर्वज कंस की इस मूर्ति की पूजा करते आए हैं और यह परंपरा आज भी निभाई जा रही है।सामान्यतौर पर हम सभी कंस को भी रावण की ही तरह एक दुष्ट शासक के तौर पर जानते हैं, ऐसी मान्यता के विरोध में जाते हुए जब इस तथ्य के विषय में पता चलता है कि लोग इनकी पूजा भी करते हैं तो अव्वल तो इस बात पर विश्वास ही नहीं होता।हालांकि जिस गांव की हम यहां बात कर रहे हैं उस गांव के लोग खुद ये बात नहीं जानते कि कंस की पूजा करने के लिए क्या कारण है या यह परंपरा किन हालातों में और कब शुरू हुई।लेकिन हम इस बात को नजरअंदाज नहीं कर सकते कि बहुत से ऐसे स्थान भी हैं जहां असुर नरेश रावण को भी पूजनीय समझा जाता है। हां, कंस के प्रति आस्था रखने जैसी बात हमारे लिए तो नई ही है।
यह भी पढ़े >>भगवान श्री राम की मृत्यु कैसे हुई
loading...

1 comment:

  1. इस संसार में कोई भी ऐसा प्राणी नहीं होगा जो धन की इच्छा न रखता हो, हर कोई यह चाह रखता है की उसके पास इतना सारा धन हो की वह उससे अपनी सभी इच्छाएं पूर्ण कर सके.

    यदि बहुत सारा नहीं तो कम से कम इतना धन हो की वह अपना गुजारा कर सके. धन को प्राप्त करने के लिए कुछ सही राह चुनते है, वे धन पाने के लिए कड़ी मेहनत करते है परन्तु कुछ लोग छल-कपट का सहारा लेकर अति शीघ्र धन कमाने की कामना करते है.
    माँ लक्ष्मी करती है धन की वर्षा, यदि आपके पर्स में होंगी ये 9 चीजे !

    ReplyDelete

Powered by Blogger.