loading...
Breaking News
recent

ओम (ॐ) का जप करने से होने वाले हेल्थ बेनिफिट्स | Health Benefits of OM Chanting in Hindi

Health Benefits of Om Chanting: धार्मिक ग्रंथों में ओम (ॐ) को महामंत्र माना गया है और इसके नियमित जप की सलाह दी गई है। डॉक्टर्स ने भी इस पर रिसर्च करके यह बताया है की इसके नियमित जप से कई तरह की मेंटल और फिज़िकल हेल्थ बेनिफिट्स होते हैं। आइए जानते है कुछ ऐसे ही फायदे –

कैसे करें ओम (ॐ) का उच्चारण?
ओम (ॐ) का उच्चारण करने के लिए किसी भी सहज पोजिशन में बैठ जाएं। आंखें बंद करके गहरी सांस लें और फिर ओम (ॐ) का उच्चारण करते हुए धीरे-धीरे सांस छोड़ें। कोशिश करें कि इस दौरान पूरे शरीर में वाइब्रेशन महसूस हो। अगर ॐ का उच्चारण करते समय कान बंद कर लेंगे तो इससे और भी ज्यादा फायदा होगा।
अदभुत रहस्य - आखिर क्यों निगला सीताजी ने लक्ष्मण को

Image result for om 
ओम (ॐ) का जप करने से होने वाले हेल्थ बेनिफिट्स : Health Benefits of Om Chanting
थाइरॉइड प्रॉब्लम – ॐ का उच्चारण करने से गले में वाइब्रेशन होता है। इससे थाइरॉइड प्रॉब्लम से बचाव होता है।

एंग्जायटी – ॐ का उच्चारण करने से एंग्जायटी, घबराहट जैसी प्रॉब्लम दूर होती हैं।

स्ट्रेस और टेंशन – ॐ का उच्चारण करने से मानसिक शांति मिलती है। स्ट्रेस और टेंशन दूर होती है।

ब्लड सर्कुलेशन – ॐ का उच्चारण करने से बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। ब्लड में ऑक्सीजन बढ़ती हैं।

हेल्दी हार्ट – ॐ का उच्चारण करने से लंग्स, BP, और ब्लड सर्कुलेशन इम्प्रूव होता है। इससे हार्ट हेल्दी रहता है।

डाइजेशन – ॐ का उच्चारण करने से पेट में वाइब्रेशन होता है। इससे डाइजेशन बेहतर होता है।

एनर्जी – ॐ का उच्चारण करने से ज्यादा ऑक्सीजन मिलती है। ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है। इससे एनर्जी बढ़ती है।

थकान – ॐ का उच्चारण करने से थकान दूर होती है। फ्रेशनेस महसूस होती है।

अच्छी नींद – सोने से पहले ॐ का उच्चारण करने से नींद न आने की प्रॉब्लम दूर होती है।


हेल्दी लंग्स – ॐ का उच्चारण लंग्स की कैपिसिटी बढ़ाता है। बॉडी को ज्यादा ऑक्सीजन मिलती है।

स्ट्रांग स्पाइन – ॐ का उच्चारण करने से स्पाइनल कार्ड में भी वाइब्रेशन होता है। इससे रीढ़ की हड्डी स्ट्रांग होती है।

एक्टिव माइंड – ॐ का उच्चारण करने से ब्रेन में वाइब्रेशन होता है। इससे कॉन्सट्रेशन बढ़ता है। माइंड एक्टिव होता है।
 रावण के पुनर्जन्म की कहानी
loading...

No comments:

Powered by Blogger.