loading...
Breaking News
recent

गर्मियों में पिएं घड़े से पानी, दूर होंगे पेट के सभी रोग - Amazing Health Benefits Using Clay Water Pot

क्‍या आप जानते हैं कि जो लोग मटके का पानी पीते हैं वह कभी बीमार नहीं पड़ते। कहा गया है कि मटके या घड़े का पानी वास्‍तव में अमृत के समान है क्‍योंकि इसका पानी सेहत के लिहाज से बहुत फायदेमंद है।

पुराने जमाने में जब हमारे घरों में फ्रिज नहीं हुआ करती थी, तब गर्मियों में गले की प्‍यास बुझाने के लिये हम मटके या सुराही के पानी का सेवन किया करते थे। लेकिन आज के इस मॉर्डन जमाने में जहां लोंगो के घरों में बड़ी-बड़ी फ्रिज आ चुकी हैं, वहां उन्‍होंने मटके के पानी का सेवन करना बंद कर दिया है। पर क्‍या आप जानते हैं कि जो लोग मटके का पानी पीते हैं वह कभी बीमार नहीं पड़ते। कहा गया है कि मटके या घड़े का पानी वास्‍तव में अमृत के समान है क्‍योंकि इसका पानी सेहत के लिहाज से बहुत फायदेमंद है।
 
कैसे ठंडा रहता है पानी 
गर्मियों में पिएं घड़े से पानी, दूर होंगे पेट के सभी रोग - Amazing Health Benefits Using Clay Water Pot
 
मिट्टी के बने मटके में बहुत ही छोटे-छोटे छेद होते हैं, जो कि नंगी आंखों से नहीं देखे जा सकते। पानी का ठंडा होना वाष्पीकरण की क्रिया पर निर्भर करता है। जितना ज्यादा वाष्पीकरण होगा, उतना ही ज्यादा पानी भी ठंडा होगा। इन छोटे छेदों द्वारा मटके का पानी बाहर निकलता रहता है। गर्मी के कारण पानी वेपर बन कर उड़ जाता है। वेपर बनने के लिए गर्मी यह मटके के पानी से लेता है। इस पूरी प्रक्रिया में मटके का तापमान कम हो जाता है और पानी ठंडा रहता है।
 
पानी को मौसम अनुसार ठंडा रखे
मिट्टी के बर्तन में पृथ्वी के गुण आ जाते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मटका, पानी को जलवायु के आधार पर ठंडा रखता है,‍ जिससे शरीर को कोई नुकसान नहीं होता

फ्रिज का पानी ज्‍यादा ठंडा होने के कारण गले को नुकसान पहुंचा सकता है। वहीं घडे का पानी गले पर नर्म प्रभाव छोड़ता है। यदि आप धूप से आ कर मटके का पानी पीते हैं तो आप कभी बीमार नहीं पड़ेंगे।
 क्यों सलाद खाना है ज़रूरी, कैसे ये आपको बीमारियों से रखता है दूर
जब आप प्‍लास्‍टिक के बोतल में पानी भर कर कई घंटों तक रखते हैं तब उसमें प्‍लास्‍टिक के गुण आ जाते हैं। ऐसे ही जब मिट्टी के मटके में पानी रखा जाता है, तो उसमें मिट्टी के गुण बढ जाते हैं, जिससे कि प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा मिलता है।
loading...

No comments:

Powered by Blogger.