दुनिया में था दैत्याकारी लोगो का राज - The world was the secret of the people

 ये हम सब अच्छी तरह जानते हैं, कि धरती पर कभी दैत्याकार इंसानों का अस्तित्व रहा हैं। लगभग सभी धर्मों के ग्रंथों में ऐसे विशालकाय मानवों की कहानियां दर्ज हैं। दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में जमीन के भीतर दबे कई ऐसे जीवाश्म (फॉसिल्स) और कंकाल मिलते हैं। जो साबित करते हैं कि वास्तव में ऐसे लोग धरती पर हुआ करते थे। दैत्याकार लोगों के बारे में ढेरों दावे हुए हैं । यहां हम आपको कुछ ऐसी ही खोजो के बारे में बता रहे हैं जो हमे दैत्याकार इंसानों के अस्तित्व के बारे में सोचने पर मजबूर करती है।
एक आम का पेड़ जिसको काटने से निकलता था खून

 
                       दुनिया में था दैत्याकारी लोगो का राज - The world was the secret of the people 

मार्च 2012 में एक 15 इंच की इंसानी उंगली की तस्वीरें चर्चा में आई थीं। हालांकि मम्मी के रूप में मिली यह उंगली अब कहां हैं । और किसके पास है, यह अभी तक रहस्य हैं । इस उंगली के बारे में सबसे पहले एक जर्मन वेबसाइट में खबर छपी थी। उसके अनुसार यह तस्वीर ग्रेगोर स्पोरी ने 1988 में मिस्र में खींची थी। तब कब्रों और पिरामिडों से चोरी करने वाले एक शख्स ने उन्हें यह उंगली दिखाई थी। इसकी तस्वीर लेने के उन्हें 300 डॉलर देने पड़े थे

 
कुछ बरस बाद जब वे उस शख्स को खोजने गए, तो वह उन्हें नहीं मिला। 2008 में जॉर्जिया के कॉकेशस माउंटेन से कुछ बड़ी-बड़ी हड्डियां मिली थीं। इसके आकार के आधार पर अनुमान लगाया गया कि अगर ये किसी इंसान की हैं। वह 8 से 10 फीट ऊंचा रहा होगा। एक प्रतिष्ठित साइंटिस्ट प्रोफेसर वेकुआ इन पर शोध कर रहे थे। लेकिन अचानक उनकी मौत हो गई। उसके बाद ये हड्डियां भी म्यूजियम से गायब हो गईं।


दुनियाभर में कई जगहों पर चट्टानों के रूप में बड़े-बड़े फुटप्रिंट्स मिले हैं। बहुत सारे लोग इन्हें विशालकाय आदि मानवों का ठोस प्रमाण मानते हैं। हैरान कर देने वाली बात यह हैं। कि कार्बन डेटिंग के आधार पर इनमें से कई की उम्र लाखों साल पुरानी बताई जाती हैं।अगर यह सच होगा, तो फिर दुनिया में इंसान का इतिहास फिर से लिखना पड़ेगा। ऐसे बड़े-बड़े पैरों में सबसे फेमस हैं।
यह कहलाता है ‘स्वर्ग का दरवाजा
दक्षिण अफ्रीका में मिला गोलियथ्स फुटप्रिंट। स्वाजीलैंड के बॉर्डर पर स्थित म्पलुजी टाउन में मिला यह फुटप्रिंट करीब 4 फुट लंबा हैं।इसे 20 करोड़ साल पुराना भी बताया जाता है। साइंस की अब तक की जानकारी के अनुसार तब तक धरती पर इंसान नहीं थे। ऐसा ही अन्य फॉसिल्स फुटप्रिंट कैलिफोर्निया की पहाड़ी पर 1926 में मिला था। यह 5 फुट लंबा था। मैक्सिको, रूस जैसे देशों में भी ऐसे बड़े-बड़े पैरों के निशान मिले हैं।
पांच पौराणिक पात्र जो रामायण और महाभारत, दोनों समय थे उपस्तिथ

No comments:

Powered by Blogger.