बच्चों के बिगड़ने के पीछे, पेरेंट्स का ऐसा व्यवहार बनता है कारण

बच्चों को भगवान का रूप माना गया हैं जो मन के सच्चे होते हैं। लेकिन समय के साथ बड़े होते-होते उनकी शरारतें, बदतंमीजी में बदलने लगती हैं। इसके पीछे का कारण पेरेंट्स भी होते हैं। जी हाँ, अक्सर पेरेंट्स अपने बच्चों के द्वारा की गई शरारतों के लिए उन्हें समझाते हैं और इसके लिए वे सख्त रवैया अपनाते हैं। जो कि बच्चों पर बुरा असर डालता हैं और ये बच्चों के बिगड़ने के पीछे का कारण बनते हैं। आज हम आपको पेरेंट्स का कुछ ऐसा व्यवहार बताने जा रहे हैं, जो बच्चों के बिगड़ने का कारण बनता हैं।



* बच्चे तो हर काम गलती करके ही सीखते हैं लेकिन आपका बात-बात पर उनपर चिल्लाना गलत है। इससे बच्चों पर बुरा असर पड़ता है और वह इस माहौल में अच्छे से बढ़ नहीं पाते। इसलिए अपने व्यवहार में थोड़ा-सा संतुलन रखें।

* बच्चों को अच्छे संस्कार या उनसे किसी भी तरह की उम्मीद करने से पहले अपनी बुरी आदतों को बदलें। क्योंकि बच्चा वही करता है जो अपने आसपास देखता है। इसके लिए आपको किताबों के साथ कुछ समय बिताना, देर रात तक टीवी न देखना, चीजों को सही जगह पर रखना, बच्चों के समाने झगड़ा न करना आदि जैसे कुछ अच्छी आदतें खुद में विकसित करें।

* आपका बार-बार डांटना के बच्चे के दिमाग पर बुरा असर डालता है। इससे कई बार बच्चा बात-बात पर डरने लगता है और किसी भी काम को करने से पहले ही पीछे हट जाता है। इसलिए अपने बच्चों को शांत तरीके से समझाए कि वह जो कर रहा है वो गलत हो।
* बच्चों को पढ़ाई के लिए या किसी और बात की वजह से कभी डराना-धमकाना नहीं चाहिए क्योंकि इससे बच्चों पर बुरा असर पड़ता है और उनका मानसिक विकास नहीं हो पाता।

* जब बच्चे को हर बात पर डांटा जाए और उन पर पढ़ाई का दबाव बनाया जाता है तो बच्चे चिड़चिड़े हो जाते हैं और किसी की बात नहीं मानते। ऐसे में कभी भी बच्चे का स्वभाव चिड़चिड़ा न होनें दें और उनकी जरूरतों को समझते हुए व्यवहार करें।

* कभी भी बच्चे की तुलना उसके भाई-बहनों या दोस्तों के साथ न करें। इससे उसके मन में आपके लिए नेगेटिव सोच तो आएगी ही साथ ही वह अपने भाई-बहनों या दोस्तों के साथ भी सहज नहीं रह पाएगा।

* बच्चों की गलती के लिए उनकी पिटाई करना या उन्हें अंधेरे कमरे में बंद करना भी गलत है। इससे बच्चों के दिमाग और मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है और वह बिगड़ैल हो जाता है। इसके अलावा बार-बार पिटाई करने की आपकी आदत बच्चे को आपसे अलग कर सकती हैं।

No comments:

Powered by Blogger.