टेलीपैथी से किसी के मन की बात कैसे जानें - Telepathy in Hindi

Telepathy in Hindi - What Is Telepathy, How to Develop Telepathy, Hindi, Information, Jankari - आज हम हजारों किलोमीटर बैठे किसी भी व्यक्ति से आसानी से बात कर सकते है। उसे वीडियो कॉल के जरिए देख भी सकते है एवं अपनी बात भी उन्हें बता सकते है। यह सब नया नहीं है भले ही बहार की सभ्यताओं के लिए ये नई बात होगी मगर भारत के लिए नहीं। क्योकि भारत लाखों सालों से इस विधि का उपयोग करता आ रहा है जब मोबाइल भी नहीं थे।

टेलीपैथी से किसी के मन की बात कैसे जानें - Telepathy in Hindi 
हमारे प्राचीन ऋषि मुनि इस विधि से दूर कही बैठे आपस में आसानी से बात कर लेते थे इसे ही आज टेलीपेथी के नाम से जाना जाता है। दरअसल टेलीपैथी दो व्यक्तियों के बीच विचारों और भावनाओं के आदान-प्रदान को भी कहते हैं। इस विद्या में हमारी पांच ज्ञानेंद्रियों का इस्तेमाल नहीं होता, यानी इसमें देखने, सुनने, सूंघने, छूने और चखने की शक्ति का इस्तेमाल नहीं किया जाता। यह हमारे मन और मस्तिष्क की शक्ति होती है।


आप घर बैठे भी इस विधि को आसानी से सिख सकते हो। इसके लिए आपको इस विधि का सही ज्ञान होना चाहिए तभी आप किसी दूसरे की मन की बात पढ़ सकते हो। आज बहुत जुटे लोग भी है जो दावा करते है की हमे यह विधि आती है और लोगो से लाखो रुपए ले लेते है। तो ऐसे लोगो से बचे और आप स्वम इस विधि को आसानी से घर पर ही सीखें।


इसके लिए आप ध्यान का सहारा ले सकते हो जैसे जैसे आप ध्यान के गहराई में जाओगे तो पाओगे की आपको दूर दूर की आवाजें स्पष्ट सुनाई देने लगी है। अब आप किसी के दिमाग में प्रवेश कर सकते हो और उसके दिमाग के विचार पढ़ सकते हो। 

No comments:

Powered by Blogger.