भारत के रहस्यमय मंदिर | Bharat Ke Rahasya Mai Mandir

धर्म, भक्ति, अध्यात्म और साधना का देश है भारत। यहां अतिप्राचीन समय से
पूजा-स्थल के रुप में मंदिर विशेष महत्वपूर्ण रहे हैं, जिनमें से कई मंदिर
ऐसे हैं, जहां विस्मयकारी चमत्कार होते हैं। आस्थावानों के लिए यह जहां
दैवी कृपा है, तो अन्य लोगों के लिए यह कुतूहल और महान आश्चर्य का विषय है।
आइए जानते हैं भारत के उन विशिष्ट मंदिरों के बारे में जिनका रहस्य
वैज्ञानिक प्रगति के बाद आज भी एक रहस्य, एक राज है

भारत के रहस्यमय मंदिरMysterious Temples of india In Hindi

Bharat Ke Mandir In Hindi :भारत के रहस्यमय मंदिर

कामाख्या मंदिर  : Maa Kamakhya Mandir

पूर्वोत्तर भारत के राज्य असम में गुवाहाटी के पास स्थित कामाख्या देवी
मंदिर देश के 52 शक्तिपीठों में सबसे प्रसिद्ध है। लेकिन इस अति प्राचीन
मंदिर में देवी सती या मां दुर्गा की एक भी मूर्ति नहीं है। पौराणिक
आख्यानों के अनुसार इस जगह देवी सती की योनि गिरी थी, जो समय के साथ महान
शक्ति-साधना का केंद्र बनी। कहते हैं यहां हर किसी कामना सिद्ध होती है।
यही कारण इस मंदिर को कामाख्या कहा जाता है।

कामाख्या मंदिर  : Maa Kamakhya Mandir
 यह मंदिर तीन हिस्सों में बना है। इसका पहला हिस्सा सबसे बड़ा है, जहां पर
हर शख्स को जाने नहीं दिया जाता है। दूसरे हिस्से में माता के दर्शन होते
हैं, जहां एक पत्थर से हर समय पानी निकलता है। कहते हैं कि महीने में एकबार
इस पत्थर से खून की धारा निकलती है। ऐसा क्यों और कैसे होता है, यह आजतक
किसी को ज्ञात नहीं है?इस मंदिर को चूहों वाली माता का मंदिर, चूहों वाला मंदिर और मूषक मंदिर भी
कहा जाता है, जो राजस्थान के बीकानेर से 30 किलोमीटर दूर देशनोक शहर में
स्थित है। करनी माता इस मंदिर की अधिष्ठात्री देवी हैं, जिनकी छत्रछाया में
चूहों का साम्राज्य स्थापित है। इन चूहों में अधिकांश काले है, लेकिन कुछ
सफेद भी है, जो काफी दुर्लभ हैं। मान्यता है कि जिसे सफेद चूहा दिख जाता
है, उसकी मनोकामना अवश्य पूरी होती है।
 
आश्चर्यजनक यह है कि ये चूहे बिना किसी को नुकसान पहुंचाए मंदिर परिसर में
दौड़ते-भागते और खेलते रहते हैं। वे लोगों के शरीर पर कूदफांद करते हैं,
लेकिन किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाते। यहां ये इतनी संख्या में हैं कि
लोग पांव उठाकर नहीं चल सकते, उन्हें पांव घिसट-घिसटकर चलना पड़ता है, लेकिन
मंदिर के बाहर ये कभी नजर ही नहीं आते। 

ज्वालामुखी मंदिर : Jawala Devi Mandir

 तिरुपति बालाजी मंदिर के आश्चर्यजनक तथ्य
ज्वाला देवी का प्रसिद्ध ज्वालामुखी मंदिर हिमाचल प्रदेश के कालीधार पहाड़ी
के मध्य स्थित है। यह भी भारत का एक प्रसिद्ध शक्तिपीठ है, जिसके बारे में
मान्यता है कि इस स्थान पर पर माता सती की जीभ गिरी थी। माता सती की जीभ
के प्रतीक के रुप में यहां धरती के गर्भ से लपलपाती ज्वालाएं निकलती हैं,
जो नौ रंग की होती हैं। इन नौ रंगों की ज्वालाओं को देवी शक्ति का नौ रुप
माना जाता है। ये देवियां है: महाकाली, अन्नपूर्णा, चंडी, हिंगलाज,
विन्ध्यवासिनी, महालक्ष्मी, सरस्वती, अम्बिका और अंजी देवी।

किसी को यह ज्ञात नहीं है कि ये ज्वालाएं कहां से प्रकट हो रही हैं? ये रंग
परिवर्तन कैसे हो रहा है? आज भी लोगों को यह पता नहीं चल पाया है यह
प्रज्वलित कैसे होती है और यह कब तक जलती रहेगी? कहते हैं, कुछ मुस्लिम
शासकों ने ज्वाला को बुझाने के प्रयास किए थे, लेकिन वे विफल रहे।

 काल भैरव मंदिर : Kal Bhairav Mandir

 मध्य प्रदेश के शहर उज्जैन लगभग 8 कि.मी. की दूरी पर स्थित है भगवान काल
भैरव का एक प्राचीन मंदिर। परंपरा के अनुसार, श्रद्धालु उन्हें प्रसाद के
तौर पर केवल शराब ही चढ़ाते हैं। आश्चर्यजनक यह है कि जब शराब का प्याला काल
भैरव की प्रतिमा के मुख से लगाया जाता है, तो वह एक पल में खाली हो जाता
है।

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर : Mehandipur Balaji Mandir

 हनुमान जी से जुड़े पांच चौकाने वाले रहस्य
 राजस्थान के दौसा जिले में स्थित मेहंदीपुर का बालाजी धाम भगवान हनुमान के
10 प्रमुख सिद्धपीठों में गिना जाता है। मान्यता है कि इस स्थान पर
हनुमानजी जागृत अवस्था में विराजते हैं। यहां देखा गया है कि जिन
व्यक्तियों के ऊपर भूत-प्रेत और बुरी आत्माओं का वास होता है, वे यहां की
प्रेतराज सरकार और कोतवाल कप्तान के मंदिर की जद में आते ही चीखने-चिल्लाने
लगते हैं और फिर वे बुरी आत्माएं, भूत-पिशाच आदि पल भर पीड़ितों के शरीर से
बाहर निकल जाती हैं।

ऐसा कैसे होता है, यह कोई नहीं जानता है? लेकिन लोग सदियों से भूत-प्रेत और
बुरी आत्माओं से मुक्ति के लिए दूर-दूर से यहां आते हैं। इस मंदिर में रात
में रुकना मना है
मरने के 14 साल बाद जिन्दा लौट आया युवक

Loading...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *