बुटाटी धाम : इस मंदिर में होता है लकवे का इलाज

Butati Dham For Paralysis Treatment – बुटाटी धाम : जहाँ पर है चमत्कारी मंदिर – butati dham in hindi – राजस्थान में एक ऐसा मंदिर है जो की  हाथ -पैरों के सुने पन का जिसे पैरालाइज का अटैक (लकवा ) कहा जाता है जिसमे शरीर का कोई भी अंग काम नहीं करता।  इस रोग का इलाज इस धाम में होता है

ये धाम है बुटाटी धाम। ये धाम नागौर जिले से ४० किलोमीटर दूरी पर राजस्थान में कुचेरा कस्बे के पास  है इस धाम में कोई मंदिर नहीं है ना कोई भगवान है ये तो संत चतुरदास  जी महाराज की तपो भूमि है जहा उन्होंने तपस्या करते हुए समाधि ली थी। उन्होंने रोगो को ठीक करने के यही पर सिद्धि प्राप्त की थी। बस जब से ही यहां लकवे का इलाज होता है

बुटाटी धाम : इस मंदिर में होता है लकवे का इलाज – Butati Dham For Paralysis Treatment in Hindi

इस धाम में कोई भी लकवे का रोगी आ सकता है और वहा रहने और भोजन सब नि-शुल्क है आप आराम से वहा रह सकते है जब तक आप ना हो जाए दूर दूर से यहां रोगी आते है और सबका इलाज होता है बिना दवाइयों केबिना डॉक्टर के बिना वेद के विज्ञानं भी इसे चमत्कार मानते है ये धाम अद्धभुत होने के साथ ही रहस्मयी भी है

यहां संत चतुरदास जी महाराज  की समाधि है और बैठने के लिए स्थान भी है इस मंदिर में आने पर आपको संत चतुरदास जी  की समाधि की परिक्रमा करनी होती है सुबह आरती के बाद एक एक करके सभी समाधि की परिक्रमा करते है और शाम में आरती के बाद।  आप रोगी  साथ रह सकते है मन्दिर के ट्रस्ट के द्वारा उचित व्यवस्था की  जाती है

और हवन कुण्ड से भभूति लगानी होती है यहाँ पर सात दिनों के लिए रहना होता है इन सात दिनों में ही रोगी में फरक दिखने लगता है और वो ठीक होने लगता है जो हिल नहीं पाते वो चलने लगते है जो बोल नहीं पाते वो बोलने लगते है यहां सब नि शुल्क है फिर भी भक्त दान देके जाते है उसे रोगियों को ठीक करने में मंदिर के दवारा लगा दिया जाता है

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *