आखिर क्यों बनाया जाता है : न्यू ईयर

Happy New Year – नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं – New Year Kyu Manaya Jata hai दुनिया में नया साल एक उत्सव की तरह पूरे भारत में अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग तिथियों व विधियों में मनाया जाता है विभिन्न संप्रदायों के लोग नए साल (Naya Saal) का समारोह अपने अपने अंदाज में मनाते हैं और इनके अपने अलग-अलग महत्व भी होते हैं नव वर्ष सभी मनाते हैं और सभी भिन्न-भिन्न संस्कृतियों में मनाते हैं भारत के विभिन्न हिस्सों में नव वर्ष अलग अलग अंदाज में मनाया जाते हैं

हर साल नववर्ष  नई खुशियां नई उम्मीद नई उमंग नया जश्न लेकर आता है और हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि हमारा यह साल बेहतरीन जाए हम इसका वेलकम करते हैं और खुशी का इजहार करते हैं ताकि नई उमंग नए सपनों की शुरुआत जश्न के साथ खुशियों के साथ उत्साह के साथ हो

आखिर क्यों बनाया जाता है : न्यू ईयर – New Year Wishes in Hindi

लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर हम नया साल 1 जनवरी को ही क्यों मनाते हैं किसी और दिन क्यों नहीं दरअसल इस सवाल के पीछे एक इतिहास छुपा हुआ है जो आज हम आपको बताएंगे ऐतिहासिकार राजकुमार गुप्ता के अनुसार कहा गया कि नव वर्ष का उत्सव लगभग 4000 साल पहले बेबीलोन में 21 मार्च को मनाया जाता था जो कि वसंत ऋतु के आने की तिथि मानी गई थी प्राचीन रोम में भी नव वर्ष की शुरुआत रोम के बादशाह जूलियस ईसा पूर्व 45 वर्ष में जब जूलियन कैलेंडर की स्थापना की तब विश्व में पहली बार 1 जनवरी को नव वर्ष का उत्सव मनाना शुरू किया गया साल के कोरियन कैलेंडर के अनुसार 1 जनवरी को अलग-अलग संस्कृतियों के अलग-अलग कैलेंडर वर्ष के कैलेंडर के हिसाब से 1 तारीख को दुनिया में नए साल के रूप में मनाने का प्रावधान स्थापित हुआ दुनिया की देश अलग अलग समय पर नया साल मनाते हैं सब अपनी संस्कृति अपनी मान्यता के हिसाब से नया साल मनाते हैं|

नए साल को सेलिब्रेट करते समय बहुत से लोग अपने आसपास के लोगों को पार्टी में बुलाते हैं दूसरे शब्दों में कहा जाए तो पहचान बढ़ाने का यह अच्छा अवसर होता है इस मौके पर जान पहचान वालों के अलावा बहुत से अनजान लोगों को भी बधाई दी जाती है और खुशियां एक दूसरे के साथ सेलिब्रेट की जाती है सभी एक दूसरे को बधाई देते हैं और एक दूसरे की मंगल कामना करते हैं और कहते हैं कि नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं आपका नव वर्ष मंगलमय और आपके लिए शुभ फलदायक हो इसके अलावा बहुत से लोग नए साल में नई नौकरियों का सृजन करते हैं नए कंपनी अपनी नीतियों में बदलाव करती है नए चेंजिंग आते हैं सरकार आम इंसान स्कूल है कॉलेज नए-नए चेंजिंग लाते हैं और हमें भी अपने जीवन में नए चेंजिंग लाने चाहिए बुरी आदतों को पीछे छोड़ नए साल में नई उमंग नहीं आते हमारे लिए जो अच्छा हो जो सही हो अपनाते हुए आगे बढ़ना चाहिए और इसी उम्मीद के साथ कि नया साल हमारे लिए शुभ हो शुरुआत करनी चाहिए

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *