सावधान! गर्मी में पिया ज्यादा नींबू का पानी तो दे सकता है ये बिमारियां – Nimbu Pani in Hindi

गर्मी का मौसम चल रहा है ऐसे समय में बाजार में नींबू के पानी की मांग
बढ़ जाती है। कई लोग घरों में नींबू के पानी का सेवन करते हैं तो वहीं कई
लोग बाहर नींबू का पानी पीते हैं। गर्मी के समय में नींबू का पानी पीने से
राहत मिलती है और ये सेहत के लिए अच्छा भी माना जाता है। नींबू के पीने से
शरीर को पोटैशियम, विटामिन सी और फाइबर मिलता है जो  गर्मी में शरीर के लिए
अच्छा माना जाता है। लेकिन ज्यादा मात्रा में नींबू का पानी पीने से आपकी
सेहत खराब भी हो सकती है।
भीगे बादाम से ज्यादा फायदेमंद है भीगे चने, जानिए इसके बेहतरीन फायदे

 
सावधान! गर्मी में पिया ज्यादा नींबू का पानी तो दे सकता है ये बिमारियां – Nimbu Pani in Hindi

नींबू के पानी का अधिक मात्रा में सेवन करने से
डिहाइड्रेशन और पथरी जैसी बिमारियों का शिकार होना पड़ सकता है।
 गन्ने का रस पीने के फायदे तथा पीते समय ध्यान रखने योग्य बातें

डॉक्टरों के अनुसार नींबू के पानी का अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर
को बहुत नुकसान होता है। डॉक्टर कहते हैं कि जिन लोगों को एसिडिटी है
उन्हें नींबू का पानी नहीं पीना चाहिए। इसकी मुख्य वजह है नींबू में एसिड
की मात्रा का ज्यादा होना। एसिडिटी के शिकार लोग जब इसे पिएंगे तो ये शरीर
के लिए घातक हो सकता है।

गर्मी में नींबू का पानी भले ही आपको राहत दे लेकिन अगर आपने ज्यादा
मात्रा में इसका सेवन किया तो ये आपको पथरी भी दे सकता है। नींबू में एसिड
होने के साथ-साथ ऑक्सलेट भी होता है। जो पथरी दे सकता है। इसलिए नींबू का
पानी ज्यादा मात्रा में नहीं पीना चाहिए।
  अंडे खाने के फायदे और नुकसान

गर्मी में प्यास ज्यादा लगती है। जिसकी वजह से हम ज्यादा पानी पीते हैं।
लेकिन पानी में जब नींबू का रस मिल जाता है और फिर हम नींबू का पानी पी
रहे हैं तो ये हमें डिहाइड्रेशन की बिमारी दे सकता है। ज्यादा बार पेशाब
आने से आपको कई और बिमारियों का भी शिकार होना पड़ सकता है।

ज्यादा मात्रा में नींबू का पानी पीने से हमारा पेट खराब हो सकता है।
 क्यों सलाद खाना है ज़रूरी, कैसे ये आपको बीमारियों से रखता है दूर
खाना पचाने के नींबू का पानी पीना शरीर के लिए घातक साबित हो सकता है।
वहीं अगर आप सुबह उठकर नींबू का पानी पीते हैं तो ये आपके शरीर के लिए
अच्छा माना जाता है।
पेट में कीड़े होने का कारण लक्षण और उपचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *