पितृ अमावस्या पर चुपचाप सोने से पहले बोल दे यह 3 नाम पितृ दोष से तुरंत मिलेगी मुक्ति

 आजकल पितर पक्ष चल रहा है। इस पक्ष में पितरों को याद किया जाता है उनके निमित्त तर्पण व श्राद्ध किया जाता है। ऐसे में श्राद्ध पक्ष की अमावस्या बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है। इस बार श्राद्ध पक्ष की अमावस्या 8 अक्टूबर यानी सोमवार के दिन आ रही है। पितृ अमावस्या में पितरों की शांति के लिए उपाय करने से इस अमावस्या का महत्व काफी  बढ़ जाता है।



पितर अमावस्या की तिथि पितरों की तिथि मानी जाती है। इसलिए अमावस्या में पितरों की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध, तर्पण करने का विधान है।
आज इस लेख मे हम आपको पितर अमावस्या के दिन पितरों को प्रसन्न करने के लिए एक ऐसे मंत्र के बारे में बता रहें है जिसका जाप करने से पितरों को शांति मिलेगी व पितर प्रसन्न होंगे।

यह मंत्र बहुत ही चमत्कारी है, इस मंत्र के जाप से कभी भी पितृ दोष नहीं लगेगा इसके साथ ही पितरो की आत्मा को शांति मिलेती है। इस मंत्र के प्रभाव से पितरों की कृपा बनी रहेगी।

पितरों को प्रसन्न करने वाला मंत्र इस प्रकार है – ॐ सर्व पितृ देवताभ्यो नमः । इस मंत्र का जाप  अमावस्या की रात को करें ऐसा करने से पितृ दोष से मुक्ति मिलती है। इसके साथ ही मंत्र के प्रभाव से जीवन में हमेशा खुशहाल बनी रहती है।

No comments:

Powered by Blogger.