मिल ही गया आदेश

पुलवामा हमले के बाद मंगलवार को श्रीनगर में सेना, सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेस की. लेफ्टिनेंट जनरल के जे एस ढिल्लन  ने कहा कि हमने पुलवामा हमले के 100 घंटे के भीतर जैश ए मोहम्मद के टॉप कमांडर को मार गिराया. पाकिस्तान आधारित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले को अंजाम दिया था. उसने पाकिस्तानी सेना और ISI के इशारे और समर्थन से यह हमला करवाया. कामरान ही पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड था. बता दें कि सेना ने सोमवार को तीन आतंकवादियों को मार गिराया था. इस मुठभेड़ में मेजर सहित सेना के 4 जवान शहीद हो गए थे.
 

उन्होंने कश्मीर की माताओं से अपील की कि आतंकवाद का रास्ता अपना चुके युवाओं को मेन स्ट्रीम में लौटने के लिए प्रेरित करें. हथियार उठा चुके युवा ऐसा नहीं करते हैं तो मारे जाएंगे. हालांकि उन्होंने जांच से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी सार्वजनिक करने से इनकार कर दिया.
पूरी जानकारी के लिए यह वीडियो देखें 
सेना ने कहा पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ है. जैश-ए-मोहम्मद पाकिस्तानी सेना का बच्चा है. पाकिस्तानी सेना और आईएसआई के इशारे पर काम करता है. बता दें कि पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. सेना ने कहा कि सोमवार को हुई मुठभेड़ में जैश के तीन कमांडर मारे गए. घाटी में जो भी आतंकी घुसपैठ करेगा जिंदा नहीं लौटेगा. के जे एस ढिल्लन ने कहा कि कश्मीर में बहुत दिनों बाद इस तरह के कार बम विस्फोट किया गया है, इस तरह के हमलों से निपटने के लिए हमने सारे ऑप्शन खुले रखे हैं.
सीआरपीएफ के आईजी (ऑपरेशंस) जुल्फिकार हसन ने कहा कि सीआरपीएफ की हेल्पलाइन 14411 पूरे देश में कश्मीर के लोगों की मदद कर रही है. कई कश्मीरी छात्रों ने इस हेल्पलाइन नंबर पर कॉन्टैक्ट किया है. जो भी कश्मीर युवा राज्य से बाहर पढ़ाई कर रहे हैं उनकी सुरक्षा सुनिश्चित की गई है. आईजीपी कश्मीर एसपी पानी ने कहा कि युवाओं के आतंकी बनने की घटना में कमी आई है. पिछले तीन महीने में एक भी भर्ती नहीं देखी गई. इसमें परिवारों की बड़ी भूमिका है.

No comments:

Powered by Blogger.