संतो के देश में संतो की हत्या, माफ़ नहीं करेगा भारत - Juna Akhada News Hindi

संतो के देश में संतो की हत्या, माफ़ नहीं करेगा भारत - Juna Akhada News Hindi - पूरी दुनियाँ में सिर्फ भारत को ही संतो का देश कहा जाता है। क्योंकि यहाँ लाखो - करोड़ो संत हुए है जिन्होंने अपना घर - परिवार छोड़ कर देश और समाज की सेवा की है।

भारत में फैली बहुत सी बुराईयों और कुप्रथाओं को संतो ने ही खत्म किया है - संत कबीर, संत रहीम, संत सूरदास, संत नानक देव, संत साई, संत एकनाथ संत विवेकानंद ऐसे हजारों संतो के नाम हमारे पास है। जिन्होंने भारत की संस्कृति और विरासत को बनाया है। भारत संतो की भूमि है। संतो ने यहाँ हमेशा भाई चारे और प्रेम से रहने की ही सिख दी है।

संतो के देश में संतो की हत्या, माफ़ नहीं करेगा भारत - Juna Akhada News Hindi

बुद्ध और महावीर जैसे संत ने तो मानव चेतना में आध्यात्मिकता की एक नई अलख ही जगा दी आज भारत ही नहीं बल्कि पूरा विश्व ऐसे संतो के विचारों के मार्ग पर चल रहा है। भारत का सविधान भी संतो की बातों को ध्यान में रख कर ही बना है। सत्य, अहिंसा, प्रेम, करुणा यह सभी बाते संतो की वाणी से लेकर सविधान की किताब में पिरोए है।

मानव अगर संतो पर ही अत्याचार करने लगे तो समझ लेना राजा और उस प्रजा का विनाश निश्चित है। भारत में संत भगवान का रूप है। संत ही समाज को मार्ग दिखाने वाला होता है उन्हें सही मार्ग पर लाने वाला होता है। वह अपना परिवार, अपनी इच्छा, अपना सब कुछ इसलिए छोड़ कर निकल पड़ता है। ताकी समाज की तकलीफों और दर्द को कम कर सके। धर्म की रक्षा के लिए संत ही सबसे पहले आगे आते है।


ऐसे में आज जो तस्वीरें सामने आई है वो सच में बहुत ही दर्दनाक है। दो संतो की इतनी बर्बरता से हत्या वो भी भारत जैसे देश में यह तस्वीर बता रही है की आज का मानव कितना हैवान बन चूका है। उसे किसी से भी हमदर्दी नहीं है न ही यह प्रशासन से डरता और न ही भगवान से डरता, पुलिस के सामने उस भीड़ ने जिस प्रकार उन संतो को मारा है यह वाक्य में बहुत ही निंदनीय है। जब तक उन संतो के प्राण नहीं निकल गए तब तक उस भीड़ के भेड़ियो ने उन संतो को नहीं छोड़ा।

अब सभी जूना अखाड़े के संत उधव सरकार का घेराव करेंगे ताकि भविष्य में ऐसी घटना न हो। और जल्द से जल्द उन सभी लोगो को कठोर से कठोर सजा हो इसके लिए सरकार से अपील करेगी। 

टिप्पणी पोस्ट करें

[blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget