जब समुद्र से बाहर निकल कर आयी असली जलपरियां | Real MERMAID Caught On CAMERA | Asli Jalpari Ka Rahasya in Hindi



Real MERMAID Caught On CAMERA | Asli Jalpari Ka Rahasya in Hindi - विज्ञान को चुनौती देती आई रहस्यमयी चीजों में से एक है - जलपरी, जिसे हम आज तक सिर्फ दंत कथाओं में सुनते आ रहे हैं। अंग्रेज़ी में इसे मर्मेड कहते है

जलपरी, यह शब्‍द ही अपने आप में बहुत ही रोमांच और रहस्‍य का अनुभव करवाने वाला है। जलपरी की कल्‍पना करते ही मन कहानियों और उपन्‍यासों के संसार में पहुंच जाता है, जिन्‍हें हमने अपने बचपन में सुना, पढ़ा और देखा है।
Real MERMAID Caught On CAMERA | Asli Jalpari Ka Rahasya in Hindi
कहा जाता है की जलपरियां मधुर धुन में गाना गा कर इंसानों को अपनी और आकर्षित कर लेती है। उनका ऐसा गाना सुनकर कई इंसान अपने जहाजों से समुन्द्र में कूद गए है। कई बार इन्होंने जहाज कैप्टन का ध्यान भटका कर बड़े - बड़े जहाजों को भी पानी में डुबोया है। तो कुछ अच्छी जलपरियों ने डूबते हुए इंसानों को बचाया भी है। 

कई जलपरियाँ इंसानों को बचाने के लिए समुंद्र की गहराई में मौजूद अपने इलाकों में ले जाती है। जलपरियां यह भुल जाती है कि इंसान पानी के भीतर सांस नहीं ले सकते हैं। प्राचीन समय में समुंद्री लुटेरे जलपरियों के गाने को श्राप मानते थे। वे एक समुंद्री देवी की पूजा भी करते थे ताकि जलपरियाँ एवं अन्य समुंद्री जीव उनकी रुकावट न बने। 

रामायण काल में भी जलपरी का जिक्र किया गया है। रावण की बेटी थी स्‍वर्णमछा। जिसका आधा शरीर कन्‍या का और आधा मछली जैसा था। कथा है कि जब हनुमानजी लंका के लिए सेतु का निर्माण कर रहे थे तब स्‍वर्णमछा चुपके से कतार में रखे पत्‍थरों को बिगाड़ देती थी, जिससे उस समुंद्र में राम सेतु का निर्माण न हो सके और साथ ही साथ वानर सेना को परेशान करती थी। महाभारत में अर्जुन की पत्‍नी उलूपी का उल्‍लेख भी जलपरी के रूप में किया गया है।

महाभारत में मत्स्यगंधा का जिक्र आया है जिनका विवाह शांतनु से हुआ था। इनके पुत्र ही महर्षि वेदव्यास हुए थे। इनके जन्म के विषय में भी कथा मिलती है कि इनका जन्म एक मत्स्य कन्या से हुआ था जो एक अप्सरा थी और शाप के कारण मछली बन गई थीं।

भारत ही नहीं यूरोप, एशिया और अफ्रीका के कुछ देशों में भी कहानी किस्‍सों में भी जलपरी जैसे कई पात्र मिलते हैं। हालांकि जलपरी का रहस्‍य आज भी पूर्ण रूप से खुल नहीं पाया है लेकिन इस बात को भी नहीं झुठलाया जा सकता है कि जलपरी कभी धरती पर हुआ करती थीं। 

No comments:

Post a Comment