Krishna Janmashtami Kab hai 2020 Date, Time & Significance, Krishna Janmashtami 2020 Puja, Muhurat, vrat || जानिए 11 या 12 अगस्त, आखिर कब मनाई जाएगी कृष्ण जनमाष्टमी ?



 Krishna Janmashtami in hindi - Krishna Janmashtami Kab hai 2020 Date, Time & Significance, Krishna Janmashtami 2020 Puja, Muhurat, vrat || जानिए 11 या 12 अगस्त, आखिर कब मनाई जाएगी कृष्ण जनमाष्टमी ? - इस साल Krishna Janmashtami 2020 को लेकर भक्तों और श्रदालुओ में बहुत बड़ी कन्फूजन है की आखिर किस दिन बनाए कृष्ण जन्माष्टमी। दरसल भगवान श्री कृष्णा का जन्म द्वापर युग में अष्टमी तिथि को रोहणी नक्षत्र में हुआ था। Krishna Birthday 2020


लेकिन बहुत सी बार ऐसा देखा गया है की रोहणी नक्षत्र और अष्टमी तिथि दोनों एक साथ सयोंग वंश नहीं मिल पाती है। इन दोनों में कुछ घंटो का फर्क रहता है। ऐसा ही कुछ इस बार होने जा रहा है। ( Happy Birthday Krishna )


यह भी पढ़े - भूमि पूजन (राम जन्मभूमि) राम मंदिर का इतिहास एवं सम्पूर्ण जानकारी

Shri Krishna Janmashtami 2020

Lord Name - Krishna

Festival -  Krishna Janmashtami 

Day - Wednesday, 12 August 2020

Religion - Hindu

Avatar - 8 Avatar of the God Vishnu 


यह भी पढ़े - 12वीं के बाद आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बनें ?


11 अगस्त 2020 सुबह 9 बजकर 07 मिनट के बाद अष्टमी तिथि का आरंभ हो जाएगी, जो 12 अगस्त को 11 बजकर 17 मिनट तक रहेगी। वहीं रोहिणी नक्षत्र का आरंभ 13 अगस्त को सुबह 03 बजकर 27 मिनट से 05 बजकर 22 मिनट तक रहेगी। 


कृष्ण जन्माष्टमी कब मनाए ? Krishna Janmashtami Kab Manaya Jayegi

लेकिन परेशानी की कोई बात नहीं है क्योकि हमारे पौराणिक शास्त्रों और ग्रंथो में इस प्रकार की सभी समस्याओं है हल दिया हुआ है। शास्त्रों में ऐसी समस्याओं का आसान सा उपाय बताया गया है की गृहस्थों को उस दिन व्रत रखना चाहिए जिस रात को अष्टमी तिथि लग रही हो। पंचांग के अनुसार, 11 अगस्त दिन मंगलवार को गृहस्थ आश्रम के लोगों को जन्माष्टमी का पर्व मनाना सही रहेगा। क्योकि 11 अगस्त की रात को अष्टमी है। 


यह भी पढ़े - अमित शाह की जीवनी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह


गृहस्थ लोग रात में चंद्रमा को अर्घ्य दें, दान और जागरण कीर्तन करें और 12 अगस्त को व्रत का पारण करें और कृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम से मनाएं, जो कि श्रेष्ठ एवं उत्तम रहेगा। (Krishna Janmashtami Date and Time)


 वहीं जो लोग वैष्णव व साधु संत हैं। उनको 12 अगस्त को व्रत रख सकते हैं। 12 अगस्त को सुबह 11 बजकर 17 मिनट तक अष्टमी तिथि रहेगी और उसके बाद नवमी तिथि लग जाएगी। 

यह भी पढ़े - ग्रीनलैण्ड के बारे में रोचक तथ्य

No comments:

Post a Comment