Lahsun Khane Ke Fayde aur Nuksan - लहसुन खाने के फायदे और नुकसान | Garlic Health Benefits and Side Effects in Hindi



 Lahsun Khane Ke Fayde aur Nuksan { Garlic Health Benefits and Side Effects in Hindi } लहसुन खाने के फायदे और नुकसान - लहसुन का उपयोग सिर्फ सब्जियों में ही नहीं होता बल्कि आयुर्वेद में लहसुन को एक औषधि के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। आयुर्वेद की बहुत सी दवाईयों में लहसुन को पीस कर मिलाया जाता है। लहसुन को कच्चा चबाना भी काफी फायदेमंद होता है। पुरे भारत भर में स्वादिष्ट पकवान बनाने के लिए भोजन में लहसुन का इस्तेमाल किया जाता है। 


Lahsun Ki Chutney in Hindi


यह भी पढ़े -  नींबू पानी पीने के फायदे और नुकसान

 Lahsun Khane Ke Fayde aur Nuksan - लहसुन खाने के फायदे और नुकसान 

भारत के राजस्थान में एवं पंजाब हरियाणा में तो लहुसन की चटनी के साथ भोजन किया जाता है। राजस्थान में बाजरी की रोटी के साथ लहसुन की चटनी बहुत फेमस डिस है। लहसुन हमारे शरीर के पाचन तंत्र को भी ठीक करता है। आयुर्वेद कहता है की मनुष्य को हर एक सामग्री कम से कम मात्रा में लेनी चाहिए तभी वह हमारे शरीर के लिए फायदे मंद साबित होगी किसी भी चीज की अति यानी ज्यादा मात्रा हमेशा नुकसान दायक होती है। यही बात लागु लहसुन पर भी होती है लहसुन का उपयोग हमे भोजन में थोड़ी - थोड़ी मात्रा में करना चाहिए। आइये जानते है लहसुन खाने के फायदे और नुकसान के बारे में - 


- लहसुन खाने के फायदे - 


आज के जमाने की जो मॉडर्न मेडिकल साइंस है इसके पिता हिप्पोक्रेट्स को माना जाता है। हिप्पोक्रेट्स प्रसिद्ध यूनानी दार्शनिक एवं डॉक्टर थे। उनका कहना था की "या तो आप भोजन को अपनी दवा बना लीजिए या फिर दवा को अपना भोजन बना लीजिए" 


यह भी पढ़े - 12वीं के बाद आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बनें ?


हिप्पोक्रेट्स अक्सर अपने पास आने वाले मरीजों को अपने भोजन में लहसुन (Garlic) खाने की सलाह दिया करते थे।


मॉडर्न मेडिकल साइंस ने भी हिप्पोक्रेट्स द्वारा बताए गए लहसुन के कई फायदों की पुष्टि की है। इसके अलावा हमारे पूर्वज भी हजारों सालों से लहसुन का इस्तेमाल अपने भोजन में करते चले आ रहे हैं।आयुर्वेद में चरक और सुश्रुत के अलावा 650 ई. में वैद्य वाग्भट ने अपने ग्रंथ अष्टांगहृदय में लहसुन के गुणों के बारे में खूब लिखा है।


Check लहसुन Mandi Bhav, लहसुन Rate Today Online at Mandi Bhav Today


- लहसुन में कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है लेकिन पौष्टिक के मामले में लहसुन काफी आगे है। लहसुन में विटामिन बी-6 की मात्रा 17% तक पाई जाती है वही विटामिन सी 15% तक पाया जाता है। लहसुन में 23% तक मैंग्नीज भी पाया जाता है। सिलेनियम भी शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है जो की लहसुन में 6% तक पाया जाता है। 


 - इन सभी के आलावा लहसुन में पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम, कॉपर, पोटेशियम, फॉस्फोरस, आयरन और विटामिन बी1 भी मिलता है।


- लहसुन से बनने वाले सप्लीमेंट हमारे इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाते हैं। 


- सर्दी जुखाम के लिए भी काफी फायदेमंद है लहसुन, लहसुन में मौजूद एंटी - बायॉटिक गुण तेज सर्दी जुखाम को भी दूर करते है। 


- दिल के मरीजों के लिए भी काफी लाभदायक है लहसुन का सेवन। . 


- हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन जैसी बीमारियों में भी लहसुन का सेवन करना काफी फायदेमंद साबित होता है। 


- मानवों पर किए गए अध्ययन में ये बात सामने आई है कि लहसुन के पोषक तत्व हमारे शरीर में ब्लड प्रेशर घटाने में मदद करते हैं।


- भोजन में लहसुन के सेवन से हमारे शरीर का कॉलेस्ट्रॉल लेवल काफी कम होता है साथ ही साथ हार्ट अटैक का खतरा भी काफी कम हो जाता है। 


- अल्जाइमर (Alzheimer) और डिमेंशिया (Dementia) दिमाग से संबंधित बीमारियां हैं। लहसुन में ऐसे एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो इन बीमारियों में फायदा पहुंचाते हैं। 


- बीमारियों और कमजोर इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है लहसुन साथ ही साथ उम्र को बढ़ाने में भी साहयक है। 


- रोमन सभ्यता में ग्लैडिएटर्स की थकान कम करने या फिर मजदूरों की काम करने की क्षमता को बढ़ाने के लिए उन्हें लहसुन खिलाया जाता था।


- ओलंपिक में खेलने वाले एथलीट को लहसुन खिलाया जाता था ताकि उनकी थकान कम की जाए एवं उनमे तेजी से ऊर्जा का स्तर भी बढ़े। 


- लहसुन के अधिक सेवन से, उसमें मौजूद गंधक/सल्फर हमारे अंगों को हैवी मैटल/भारी धातुओं के जहर से बचाने में मदद करता है।


- सिरदर्द और ब्लड प्रेशर जैसे रोगो में भी औषधि के रूप में काफी असरदार है लहसुन। 


- प्राचीन अध्ययन से हमें पता चलता है कि लहसुन खाने से महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ती है जिससे हड्डियों की घिसावट में कमी आती है


यह भी पढ़े -  गुलाब का शरबत कैसे बनाएं, गुलाब शरबत के फायदे


Lahsun Ki Kheti in Hindi 


लहसुन बहुत सारे स्वादिष्ट पकवानों, खासतौर पर सूप और सॉस में डाला जाता है। लहसुन का तीखा स्वाद सब्जियों में घुलकर जबरदस्त पंच देता है। लहसुन का सेवन कई तरीके से किया जा सकता है। आप उसे साबुत निगल सकते हैं या फिर पाउडर, उसका सत और तेल निकालकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।  हालांकि, ये बार भी ध्यान में रखनी चाहिए कि लहसुन के सेवन के कुछ निगेटिव पहलू भी हैं। अधिक लहसुन खाने से आपके मुंह से बदबू आ सकती है। इसके अलावा कुछ लोगों को इससे एलर्जी भी होती है। अगर आपको खून से जुड़ी बीमारियां हैं या फिर आप खून को पतला करने की दवाएं ले रहे हों, तो लहसुन का सेवन बढ़ाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। वैसे आप लहसुन को सब्जी में डालकर खा सकते हैं। लहसुन की चटनी या अचार बना सकते हैं। लहसुन का हलवा बना सकते हैं या फिर उसे भूनकर या फिर साबुत भी खा सकते हैं। आईये जानते है लहसुन खाने के कुछ नुकसान के बारे में - 


- लहसुन खाने के नुकसान - 


- लहसुन सांस में बदबू, मुंह, पेट या सीने में जलन, गैस, मतली, उल्टी, शरीर में गंध और दस्त का कारण बन सकता है। अक्‍सर कच्चा लहसुन खाने से स्थिति और भी खराब हो जाती हैं। इससे रक्तस्राव का खतरा भी बढ़ सकता है। 


- सर्जरी के बाद लहसुन का सेवन से अन्य एलर्जी प्रतिक्रियाओं और ब्‍लीडिंग की शिकायत हो सकती है। आइए, जानते हैं कि लहसुन खाने के और क्या-क्या नुकसान उठाने पड़ सकते हैं।


- ज्यादा मात्रा में लहसुन खाने से स्किन इर्रिटेशन और रैशेज जैसी समस्याएं सामने आती हैं। 


- लहसुन में एलीनेज नाम का एंजाइम पाया जाता है जो खुजली की वजह बनता है। इसी एंजाइम की वजह से लहसुन को काटते समय ग्लव्स पहनने की सलाह दी जाती है। 


- कच्चा लहसुन खाना सरदर्द की समस्या दे सकता है। कई अध्ययनों में यह बताया गया है कि लहसुन न्यूरोपेप्टाइड्स रिलीज करता है जो सरदर्द का कारण बनता है।


- जो महिलाएं वेजिनल इन्फेक्शन से ग्रस्त हैं उन्हें लहसुन से सख्त परहेज करना चाहिए। यह इस तरह के संक्रमण को बढ़ाने में मददगार होता है।


- तमाम अध्ययनों में यह बताया गया है कि ज्यादा मात्रा में लहसुन का सेवन उल्टी और सीने में जलन की वजह बन सकता है। ऐसे में इस समस्या से बचने के लिए आपको लहसुन का सेवन कम करना चाहिए। 


- लहसुन गैस्ट्रोइंटेस्टिनल ट्रैक्ट में जलन पैदा कर सकता है। इसलिए अगर आपको पाचन संबंधी समस्‍या हो तो लहसुन का प्रयोग सावधानी से करें।


- लहसुन, विशेष रूप से ताजा लहसुन के सेवन से ब्‍लीडिंग की समस्‍या बढ़ जाती है। इसलिए ब्लीडिंग डिसऑर्डर की समस्‍या से बचने के लिए लहसुन का सेवन करते समय इसकी मात्रा का ध्‍यान रखें। 


- कई अध्ययनों के अनुसार, लहसुन की खुराक मुंह से लेने के बाद रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर में एक छोटी सी कमी देखी गई हैं। लेकिन एक मामले में मुंह से लहसुन की एक बड़ी राशि लेने के बाद एक स्वस्थ आदमी में दिल का दौरा पड़ने का उल्लेख किया गया।


यह भी पढ़े -  अनार खाने के फायदे और नुकसान

No comments:

Post a Comment