Assam Mein Badh Ka Kahar - असम में बाढ़ का कहर, भारी नुकसान | Assam Flood News Today in Hindi - UPSC



Assam Mein Badh Ka Kahar - असम में बाढ़ का कहर, भारी नुकसान | Assam Flood News Today in Hindi - UPSC


हम आज असम में मौजूद है। यहाँ एक बार फिर से बाढ़ के कारण चारो तरफ हाहाकार मचा हुआ है। इस वक्त असम कोरोना और बाढ़ की दोहरी मार झेल रहा है। असम अभी जुलाई में आई बाढ़ से उभर ही नहीं पाया की अब एक और आफत तैयार है। असम के नागोन जिले में हालात काफी चिंता जनक है। यहाँ सड़के, स्कुल, कॉलेज सभी पानी से पूरी तरह लबा - लब भर चुके है। 


यह भी पढ़े - शुक्र ग्रह पर पैदा हुए सूक्ष्म जीव, वैज्ञानिक भी हैरान

Assam Mein Badh Ka Kahar

इंसान तो इंसान यहाँ पशु - पक्षी भी खुदरत के इस कहर के चपेट में आए बिना नहीं रह सके। इस बाढ़ के कारण करीब 2 लाख लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है। असम में हर साल बाढ़ के कारण जान-माल की भारी तबाही होती है. लेकिन जटिल सरकारी प्रक्रियाओं के तहत जब तक बाढ़ के नुकसान का आंकलन होता है तब तक प्रदेश में अगली बाढ़ आ जाती है. लिहाजा लोग तटबंध निर्माण तथा अन्य मरम्मत के काम को लेकर हमेशा सरकार पर सवाल उठाते है। 


यह भी पढ़े - हमारा अस्तित्व अब खतरे में है


Assam Mein Badh Ki Sthiti 


असम में इस साल यह तीसरी बार बाढ़ आई है। असम में साल-दर-साल भयंकर बाढ़ आने के पीछे कई कारण बताए जाते हैं। ब्रह्मपुत्र नदी पर अध्ययन करने वाले वैज्ञानिक बताते है कि बढ़ते प्रदूषण और तापमान से तिब्बत के पठार पर जमी बर्फ़ और हिमालय के ग्लेशियर तेज़ी से अब पिघल रहे हैं। इससे आने वाले समय में ब्रह्मपुत्र नदी जलस्तर काफी ज्यादा बढ़ जाएगा।  


यह भी पढ़े - भारत से विलुप्त हो चुकी हैं जीवों की यह प्रजातियां

Assam Flood News Today in Hindi

दरअसल तिब्बत में नदी के उद्गम स्थल पर तलछट इकट्ठा होना शुरू हो जाता है, क्योंकि ग्लेशियर पिघलकर मिट्टी को नष्ट कर देते हैं। 


Assam Flood News in Hindi 


जैसे-जैसे पानी असम की ओर बढ़ता है, यह अधिक तलछट इकट्ठा करके अपने साथ लेकर आता है। जबकि ब्रह्मपुत्र की अन्य सहायक नदियाँ इस तलछट को नष्ट करने में अप्रभावी बताई जाती हैं, जिससे बड़े पैमाने पर बाढ़ आती है और मिट्टी का कटाव होता है। अपने साथ तलछट लाने वाली दुनिया की शीर्ष पांच नदियों में ब्रह्मपुत्र भी एक है। 


यह भी पढ़े - सूर्य ग्रहण क्यों लगता है?

No comments:

Post a Comment