Plane Returned After 35 Years of Time Travel in Hindi - 35 साल का टाइम ट्रेवल करके लौटा जहाज़ {Santiago Flight 513} JL50 Web Series



Plane Returned After 35 Years of Time Travel in Hindi - 35 साल का टाइम ट्रेवल करके लौटा जहाज़ {Santiago Flight 513} JL50 Web Series


जानिए समय यात्रा सम्भव या नहीं? Time Travel Possible or Not in Hindi


दोस्तों आज हम बात करेंगे एक ऐसे विमान की जो अचानक ही आसमान में गायब हो गया था और ठीक 35 साल बाद उस विमान के बारे में जैसे ही पता चलता है तो वैज्ञानिक भी हैरान रह जाते है। इस घटना पर बहुत सी फिल्मे और वेब सीरीज भी बन चुके है। 


यह भी पढ़े - मगरमच्छ को आसानी से खाता है ये पक्षी, शूबिल पक्षी के बारे में रोचक जानकारी

Plane Returned After 35 Years of Time Travel in Hindi - 35 साल का टाइम ट्रेवल करके लौटा जहाज़


और अब भारत में भी ऐसी ही एक घटना पर JL50 के नाम से वेब सीरीज बनी है। इस वेब सीरीज में बताया गया है की JL50 के नाम से एक प्लेन 20 अगस्त 1984 को कलकत्ता के एरपोर्ट से उड़ा था और ठीक 35 साल बाद वह फिर से एक बार सामने आता है। घटना को रोमांचित बनाने के लिए इस वेब सीरीज में  दिखाया गया है की कैसे हूबहू वह यात्री और JL50 के पायलेट 35 साल बाद दुबारा जिन्दा मिलते है। लेकिन क्या आप जानते है की ऐसी ही एक घटना सच में भी घटित हुई थी। 


Interesting Facts About Time Travel in Hindi


आइये जानते है इस वेब सीरीज से जुडी एक रहस्य्मयी सत्य घटना के बारे में। यह बात 4 सितंबर 1954 की है। इस दिन सुबह सेंटियारगो एयरलाइन की फ्लाइट PWA TWA 513 जर्मनी के एक एयरपोर्ट से 92 लोगो के साथ ब्राजील के लिए एक उड़ान भरी थी। इनकी पूरी यात्रा का समय करीब 18 घंटो का था। लेकिन उड़ान के ठीक 6 घंटो बाद इस फ्लाइट का कॉन्टेक्ट पूरी तरह से टूट चूका था। किसी की कुछ खबर नहीं की आखिर उस फ्लाइट का क्या हुआ। जर्मन के खबरों में यह एक रहस्य्मयी घटना बन कर रह गई। क्योकि न तो उस विमान के बारे में कुछ पता चला और न उसमे बैठे 92 लोगो की कोई खबर मिली। 


यह भी पढ़े - दुनियाँ के सबसे अजीबों - गरीब जानवर, देख कर चौंक जाओगे आप


धीरे - धीरे कई दिन बीत गए महीने बीते और साल बीते लेकिन उस फ्लाइट के बारे में किसी को भी कोई जानकारी नहीं थी। इस घटना के कुछ साल बाद अचानक ही सेंटियारगो एयरलाइन भी बंद हो गई थी। फिर अचानक एक समान्य दिन 12 अक्टूबर 1989 की सुबह ऑटो एलीगरे रडार पर एक अनाउन प्लेन दिखा जो की तेजी से एयरपोट की तरफ बढ़ रहा था। 


टाइम ट्रेवल करके लौटा जहाज़ Santiago Flight 513


जहाज के एकदम नजदीक पहुंचने पर ऑटो एलीगरे एयरपोट के कंट्रोल रूम में बैठे कर्मचारी हैरान रह गए क्योकि उस जहाज पर सेंटियारगो एयरलाइन लिखा हुआ था। जिसे बंद हुए काफी साल हो चुके थे। एयरपोट पर सिक्योरटी को तुरंत मजबूत किया गया क्योकि ऑटो एलीगरे एयरपोट के कर्मचारियों को डर था की यह किसी सरफिरों का मजाक तो नहीं या किसी आंतकी संघठन की बड़ी चाल तो नहीं। वहाँ मौजूद सभी लोगो के मन में उस वक्त उत्सुकता और डर दोनों ही था। 


यह भी पढ़े - जब समुद्र से बाहर निकल कर आयी असली जलपरियां


कुछ समय पश्चात वह प्लेन एयरपोर्ट पर आराम से लेंड हो जाता है। प्लेन को देख कर वहाँ मौजूद सभी यात्री भी सन्न रह गए क्योकि यह सेंटियारगो एयरलाइन का वही प्लेन था PWA 513 जो ठीक 35 साल पहले अचानक ही गायब हुआ चूका था। अब इस रहस्य का और भी ज्यादा पेचीदा और डरावना होना भी बाकि था। 


Time Travel Kaise Kare in Hindi


जहाज के लेंड होने के बाद 20 से 30 मिनट तक कोई हलचल न होने पर एयरपोट अथॉरटी ने जहाज के दरवाजे को खोल कर अंदर जाने का प्रयास किया। ताकि इस पूरी घटना को समझा जा सके। कुछ समय में जैसे - तैसे जहाज के दरवाजो को खोल ही लिया गया उसके बाद वहाँ मौजूद लोगो ने जो देखा उसे देख कर सभी के होश ही उड़ गए। 


यह भी पढ़े - समुद्र में मौजूद कुछ रहस्यमयी जीव, वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा पाए रहस्य


दरसल इस विमान में एक भी इंसान नहीं था बस चारों तरफ सिर्फ कंकाल ही कंकाल मौजूद थे। जो की अब भी अपनी सीट की बेल्ट से बंधे थे। इन कंकालों में छोटे बच्चे महिलाएं - पुरुष सभी थे। वहाँ मौजूद लोग तुरंत दौड़ कर कोरपिट की और गए ताकि वह पायलेट से सारे सवालों का जवाब ले सके। लेकिन जैसे ही एयरपोट अथॉरटी ने पायलेट कक्ष का दरवाजा खोला तो देखा जहाज का पायलेट भी एक कंकाल बन चूका था। लेकिन उसके हाथ अभी भी प्लेन के नेविगेशन कंट्रोल पर थे। 


यह वही 92 लोगो का प्लेन था जो 35 साल पहले जर्मन से चले थे और आज एयरपोट पर पहुंचे है। ऐसे में सभी वैज्ञानिक भी हैरान थे की आखिर यह प्लेन 35 सालों तक कहा था और आखिर यह लेंड कैसे हुआ। ब्राजील की गोरमेंट इस संबंध में कोई भी जवाब नहीं देना चाहती थी। बहुत सी बड़ी - बड़ी पेरानॉर्मल इन्वेस्टिगेशन एजेन्सियो  ने भी इस पर काफी रिसर्च की थी की आखिर यह जहाज इतने सालो तक कहा था।


लेकिन किसी को कोई भी सुराख नहीं मिले आखिर कार सभी बड़े डॉक्टर और वैज्ञानिक एक ही थ्योरी पर पहुंचे जिसे टाइम ट्रेवल का नाम दिया गया और कहा गया की हो सकता है यह प्लेन इतने सालो तक किसी टाइम ट्रेवल के जाल में फसा हो क्योकि इससे पहले भी कुछ समुंद्री जहाज भी ऐसी घटना के शिकार हो चुके है। 


ऐसे में यह कहना गलत नहीं की यह सब समय के जाल में भी फस सकते है। लेकिन यह समय यात्रा वाली थ्योरी विश्वसनीय न होने के कारण वहाँ की गोरमेंट ने इसे अभी तक स्वीकार नहीं किया है। हालाकिं बहुत से लोगो का यह मानना है की समय यात्रा Possible है।


यह भी पढ़े - मेहंदीपुर बालाजी मंदिर की सम्पूर्ण जानकारी एवं इतिहास

No comments:

Post a Comment