Sona Kaise Banta hai in hindi - सोना कैसे बनता है ? HOW TO MAKE GOLD | जानिए सोना बनाने की विधि | Sona Banane Ki Vidhi, Formula, Proces in Hindi



Sona Kaise Banta hai in hindi - सोना कैसे बनता है ? HOW TO MAKE GOLD | जानिए सोना बनाने की विधि | Sona Banane Ki Vidhi, Formula, Proces in Hindi


अफ्रीका के यूकानडा में मौजूद यह कमपनी गोल्ड बनाने का काम करती है। इस कम्पनी का नाम है AGR यानी African Gold Refinery . यह कंपनी 50 ग्राम से लेकर 1000 ग्राम तक के सोने के बिस्कुट बनाती है। 


यह भी पढ़े - दुनिया की 5 सबसे ज़बरदस्त कारे, देख कर हैरान रह जाओगे


यहाँ पर इनकी जिओकेमिकल लेब भी मौजूद है। यह कंपनी अफ्रीका की एक बड़ी नामी कंपनी है। अफ्रीका की खाद्यानो में सबसे ज्यादा सोना पाया जाता है। सबसे पहले इन चटानों में से सोना निकाला जाता है। यह काम बहुत ही बारीकी से किया जाता है। अफ्रीका की गहरी नदियों में भी सतह पर सोना पाया जाता है। ऐसे में श्रमिक यहाँ से सोने के पत्थर एवं टुकड़े निकाल कर आगे फैक्ट्री में भेज देते है। क्योकि अभी यह पूर्णतया सोना नहीं है अभी कुछ कार्य बाकी है। 


यह भी पढ़े - दुनिया के सबसे खतरनाक रेलवे ट्रैक, बादलों पर चलती ट्रेन

Sona Kaise Banta hai in hindi - सोना कैसे बनता है ?

सबसे पहले उन पत्थरो को चेक किया जाता है। यहाँ उनकी शुद्धता की जाँच की जा रही है और बेकार पत्थर को अलग कर दिया जाता है।अब कंपनी उन श्रमिकों को उनकी मेहनत के पैसे दे देती है। इसके बाद शुरू होता है सोना बनाने का असली काम। अब यहाँ लेब में उन सभी पत्थर एवं टुकड़ो को इकठा कर लिया जाता है। यहाँ पर बहुत सारी अलग - अलग मशीने लगी है।  जिनके द्वारा इनको बारीक टुकड़ो में विभाजित कर दिया जाता है एवं केमिकल की सहायता से इनको साफ कर लिया जाता है। 


ऐसे में सोने के अंदर की छुपी चमक अब बाहर निकल आती है। अब इन बारीक़ टुकड़ो को अलग - अलग बिस्किट के आकर के साँचो में डाला जाता है। इसके बाद इन साँचो को गर्म ताप की मशीनों में रखा जाता है और एक निश्चित समय पर बाहर निकाल लिया जाता है। अब यह बिस्कुट के आकर में तैयार हो चुके है। अब इन पर दाब देकर कम्पनी का नाम और यह कितने ग्राम का है यह सभी छाप दिया जाता है। अब यह सोने के बिस्किट तैयार हो चुके है। जल्द ही इन्हे ज्वेलरी शॉप के लिए रवाना कर दिया जाएगा। 


Gold Kaise Banaya Jata hai in Hindi


यहाँ डेनी अब फैक्ट्री में आई पुरानी ज्वैलरी को पिघलाने का काम करने वाले है। ये ज्वैलरी अब डेमेज है इन सभी में कोई न कोई खराबी है एवं कुछ स्थानीय लोग इन्हे ऐसे ही बेच भी जाते है। अब इन सभी को एक गर्म भटी वाली मशीन में डाला जा रहा है। इस भटी में इनको अच्छी तरह से तपाया जाता है। 


यह भी पढ़े - ग्रीनलैण्ड के बारे में रोचक तथ्य

HOW TO MAKE GOLD

अच्छी तरह तपने के बाद इन्हे ईंट जैसे बने बड़े - बड़े साँचो में बाहर निकाल लिया जाता है। इस समय यह किसी पिघले हुए लावे की तरह दिखाई दे रहा है। अब इसे अच्छी तरह साफ कर लिया जाता है और सोने के बिस्किट की तरह ही इनका भार और कंपनी का नाम इन ईंटो पर छाप दिया जाता है। 


आज कल हाथ की बजाए सभी काम अब मशीनों से होने लगे है। फिर चाहे सोने की चैन बनाने का काम हो या किसी हार पर कढ़ाई का काम हो सभी मशीनों के द्वारा बहुत ही तेजी से हो रहा है। यहाँ पर बहुत ही बड़ी - बड़ी सोने की चेने मात्र कुछ ही घंटो में तैयार कर ली जाती है फिर इन्हे एक नाप के अनुसार बराबर काट के डिजाइन भी कर दिया जाता है। इन बड़ी - बड़ी मशीनों की सहायता से अब मात्र एक दिन में ही हजारों चेन तैयार कर ली जाती है। 


यह भी पढ़े - जानिए डॉल्फिन से शार्क क्यों डरती है ?

जानिए सोना बनाने की विधि | Sona Banane Ki Vidhi


ये मशीने इन्हे अपने आप अलग - अलग डिजाइन में ढाल देती है। भारत में बिकने वाले मंगलसूत्र पर कारीगरी भी अब मशीनों की सहायता से बहुत ही सुंदर तरीके से की जा रही है। यूरोप की बड़ी - बड़ी कम्पनियाँ भी अब इस काम में जुटी है और भारत में भी इस क्षेत्र में नए आयाम अब नजर आ रहे है। अब तक भारत में यहाँ इस काम को सुनार ही करते आए है लेकिन जल्द ही इन बड़ी - बड़ी मशीनों के आने के बाद देश के युवा भी इस क्षेत्र में अपना केरियर बना पाएंगे। 


यह भी पढ़े - समुद्र में मौजूद कुछ रहस्यमयी जीव, वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा पाए रहस्य

No comments:

Post a Comment