Tanot Mata Mandir in Hindi - तनोट माता मंदिर की सम्पूर्ण जानकारी एवं इतिहास | Tanot Mata Mandir Jaisalmer Border | Tanot Temple History in Hindi



Tanot Mata Mandir Hindi - तनोट माता मंदिर की सम्पूर्ण जानकारी एवं इतिहास | Tanot Mata Mandir Jaisalmer Border | Tanot Temple History in Hindi - Tanot Mata Mandir Ki Story in Hindi


तनोट माता का मंदिर की जानकारी Tanot Mata Ka Mandir Ki Jankari


पूरी दुनियाँ में भारत को देव भूमि के रूप में जाना जाता है। भारत की भूमि देवी - देवताओं की भूमि है। यहाँ पग - पग पर ढेरों अद्धभुत मंदिर है जहाँ पर विराजित देवी - देवता समय आने पर यहाँ के लोगो की रक्षा भी करते है। इसी बात को सत्य साबित करता है राजस्थान का यह मंदिर। 


यह भी पढ़े - मेहंदीपुर बालाजी मंदिर की सम्पूर्ण जानकारी एवं इतिहास

Tanot Mata Mandir in Hindi - तनोट माता मंदिर की सम्पूर्ण जानकारी एवं इतिहास

तनोट माता का मंदिर राजस्थान बॉर्डर Tanot Mata Mandir Jaisalmer Rajasthan


दोस्तों हम बात कर रहे है राजस्थान में भारत - पाकिस्तान सीमा पर बना जैसलमेर जिले से 130 किलोमीटर की दुरी पर स्थित यह मंदिर अपनी कहानी खुद ही बया करता है। इस मंदिर को किसी उदहारण की जरूरत नहीं है। यहाँ पर भक्त खुद ही अपने आँखों से चमत्कार देखते है।  


यह भी पढ़े - बुटाटी धाम, नागौर (राजस्थान) की सम्पूर्ण जानकारी एवं इतिहास


Shree Mateshwari Tanot Rai Mandir Tanot Rajasthan श्री मातेश्वरी तनोट राय मंदिर तनोट राजस्थान 

तनोट माता मंदिर जैसलमेर राजस्थान फोटो


- इस मंदिर की स्थापना भाटी राजपूत नरेश तणुराव ने की थी।


- माना जाता है की यह देवी आवड है जिन्हें अब सब तनोट माता के रूप में जानते है। 


- इस मंदिर को लेकर भारतीय सेना के BSF के जवानों की बड़ी श्रद्धा है। इसके पीछे एक सच्ची घटना है। 


यह भी पढ़े - कमल मंदिर (बहाई उपासना मंदिर) की सम्पूर्ण जानकारी एवं इतिहास


- दरसल साल 1965 भारत - पाकिस्तान के युद्ध के समय पाकिस्तान की सेना भारत के अंदर 5 किलोमीटर तक आ गई थी। जहाँ हथियारों से लेस पाकिस्तान की सेना ने इस मंदिर को देखा और इसे तोड़ने के लिए 3000 बम दागे थे लेकिन माता के चमत्कार से इस मंदिर को एक खरोंच तक नहीं आई। 


यह भी पढ़े - एक गुरु जो अपने शिष्य को नारायण का अवतार मानते थे

Tanot Mata Mandir Jaisalmer Border

- सभी को आशचर्य तो तब हुआ जब उन्होंने देखा की मंदिर परिषद में दागे गए 450 में से एक भी बम नहीं फटा था। 


- इस घटना के बाद पाकिस्तानी सेना कमजोर हो गई और एक कदम भी आगे नहीं बढ़ पाई और वापस भाग खड़ी होई। इस घटना के बाद भारतीय सैनिक के जवान माता से आशीर्वाद लेने यहाँ आते है। 


- मन्दिर के अन्दर ही एक संग्रहालय है जिसमें वे गोले भी रखे हुए हैं। जो उस समय पाकिस्तान की सेना ने इस मंदिर पर दागे थे। यह सभी बम आज भी एकदम जिन्दा अवस्था में है। 


यह भी पढ़े - सपने में सांप को देखना इसका क्या मतलब है ?


- यहां के पुजारी भी सैनिक ही हैं। मंदिर में देवी के दर्शन करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।


- यह मंदिर आज सभी लोगो के लिए एक आस्था का केन्द्र बन गया है। यहाँ माता के दर्शन के लिए भारत ही नहीं अपितु विदेश से भी माता के भक्त उनके इस चमत्कार को देखने आते है। 

 

- सेना के जवान ही मंदिर की देखरेख करते हैं। तनोट माता के मंदिर जाने के लिए सबसे पहले जैसलमेर पहुंचना होगा। जैसलमेर जाने के लिए आप अपने वाहन से जा सकते हैं। इसके अलावा राजस्थान रोडवेज की बस से भी यहाँ पर पहुँचा जा सकता है।


यह भी पढ़े - बुरी नजर का इलाज : जानिए किस हाथ एवं पैर में बांधे काला धागा, काला धागा बांधने के फायदे

No comments:

Post a Comment