Rajasthan Lok Seva Aayog Ke Adhyaksh - RPSC क्या है? गठन, कार्य, अध्यक्ष व सदस्य (राजस्थान लोक सेवा आयोग) Rajasthan Public Service Commission in Hindi



Rajasthan Lok Seva Aayog Ke Adhyaksh - RPSC क्या है? गठन, कार्य, अध्यक्ष व सदस्य (राजस्थान लोक सेवा आयोग) Rajasthan Public Service Commission in Hindi


RPSC का पूरा नाम - राजस्थान लोक सेवा आयोग (Rajasthan Public Service Commission) है। 

Rajasthan Lok Seva Aayog Ke Adhyaksh in Hindi

लोक सेवा आयोग (RPSC) के सवैधानिक प्रावधान 


* राज्य सरकार में योग्य लोक सेवकों की भर्ती करने के लिए सविधान के 14वे भाग में अनुच्छेद 315 से 323 तक राज्य लोक सेवा आयोग के कार्य, शक्तियाँ, सदस्यों की नियुक्ति आदि के प्रावधान किए गए है। 


* सविधान के अनुच्छेद 315(1) में प्रत्येक राज्य में एक लोक सेवा आयोग के गठन का प्रावधान किया गया है। 


* अनुच्छेद 315(2) में दो या अधिक राज्यों के लिए एक सयुंक्त लोक सेवा आयोग के गठन का प्रावधान है। 


लोक सेवा आयोग (RPSC) के कार्य 


* राजस्थान लोक सेवा आयोग का दायित्व राज्य प्रशासन को सुचारू रूप से सचांलित करने के लिए कुशल अधिकारियों का चयन करना है। 


* जोधपुर में 1939 को सर्वप्रथम लोक सेवा आयोग का गठन हुआ। 


* जयपुर में 1940 तथा बीकानेर में 1946 में लोक सेवा आयोग ने अपना कार्य करना प्रारम्भ किया था। 


लोक सेवा आयोग (RPSC) का गठन 


* 16 अगस्त 1949 को एक अध्यादेश जारी कर जयपुर में राजस्थान लोक सेवा आयोग की स्थापना की गई थी। गठन के समय आयोग में एक अध्यक्ष और दो अन्य सदस्य थे। 


लोक सेवा आयोग (RPSC) के प्रथम अध्यक्ष 


* सर. एस. के. घोष (20 अगस्त 1949) को इसके प्रथम अध्यक्ष बने थे। 


* वर्तमान में "भूपेंद्र सिंह यादव" (35 वे), अध्यक्ष है। 


लोक सेवा आयोग (RPSC) के सदस्यों की संख्या 


* प्रारम्भ में RPSC में दो सदस्य (अध्यक्ष सहित कुल तीन) थे। सन 1968 में आयोग के सदस्यों की संख्या दो से बढ़ा कर तीन कर दी थी। 


* सन 1973 में यह संख्या बढ़ा कर चार कर दी गई। 


* सन 1981 में यह संख्या पाँच कर दी गई। 


* वर्ष 2011 में सदस्यों की संख्या 5 से बढ़ा कर सात कर दी गई एवं अब वर्तमान में RPSC में अध्यक्ष सहित कुल 8 सदस्य है। 


राजस्थान राज्य के जिला प्रशासन के बारे में जानने के लिए यहाँ क्लिक करें -  जिला प्रशासन 

No comments:

Post a Comment