Tour of Eco Village in American - अमेरिका का काशी गाँव | Sustainable and Community Living : Kashi Eco Village Project



Tour of Eco Village in American - अमेरिका का काशी गाँव | Sustainable and Community Living : Kashi Eco Village Project


अमरीका के रहने वाले एक नागरिक ने भारत का एक गांव अमेरिका में बसा दिया है। इनका जीवन गाँधी के आदर्शो पर टिका है। जिस प्रकार महात्मा गाँधी का कहना था की अगर दुनियाँ को बदलना है तो पहले खुद बदलो। इस प्रकार यह भी मानते है की हमारे कार्य वास्तव में मायने रखते हैं और व्यक्तियों और समुदायों के साथ मिलकर हमारे पास दुनिया को बेहतर बनाने की एक शक्ति है।


यह भी पढ़े - हमारा अस्तित्व अब खतरे में है

अमेरिका का काशी गाँव - Tour of Eco Village in American


मेरा नाम टेरी मेयर है। में स्थायी काशी का डाइरेक्टर हूँ। हम हमारे इको - सिस्टम को मजबूत करने के लिए ऑर्गेनिक खेती करते है। खाद निर्माण का काम करते है और आर्ट ऑफ़ लिविंग भी। 


यह भी पढ़े - गंगा नदी के बारे में जानकारी, गंगा नदी के रोचक तथ्य


यहाँ इस जगह पर प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर हमने एक छोटा सा पर्यावरण के अनुकूल गांव Eco Friendly Village बनाया है। ये इस गांव का खाद क्षेत्र है। यहाँ हमारी टीम गले हुए पत्तों और टूटी हुई लकड़ियों के द्वारा खाद तैयार करती है। इसमें इधर - उधर से सारा कचरा मिला लिया जाता है। कुछ महीनो के बाद यह पूर्णतया खाद के रूप में तैयार हो जाती है। 


यह इस गांव का गार्डन है जिसमे बहुत से पौधे हमने लगा रखे है। यहाँ अलग - अलग प्रकार की सब्जियाँ उगाई जाती है। बीजों को इस मशीन की सहायता से आसानी से मिट्टी के अंदर डाल दिया जाता है। 


यह भी पढ़े - भारत से विलुप्त हो चुकी हैं जीवों की यह प्रजातियां


यह इस कासी गांव का तुलसी गार्डन है। यहाँ पर काफी मात्रा में तुलसी के पौधे लगाए गए है। इनके पत्तों का स्वाद काफी अच्छा होता है और यह हमारे शरीर को एक नई ऊर्जा भी देती है। 


ये पूरा का पूरा सिस्टम सोलर पावर पर आधारित है। इस गांव में हमने चारों तरफ सोलर प्लेटे लगा रही है जो धुप से चलती है। जो वाकई में बहुत ही मददगार है। 


यह भी पढ़े - जलवायु परिवर्तन एक वैश्विक चुनौती

Tulsi Garden in USA 

पानी की सुविधा के लिए यहाँ हर तरफ बड़े - बड़े ड्रम रख रखे है। जो करीब 50 गैलन तक के है। में ऐसे ही सिस्टम पर विश्वास करता हूँ जिससे पर्यावरण को कम से कम नुकसान हो। मेरी यह मुहीम पिछले काफी सालों से लगातार चल रही है। मेरे इस गार्डन में दुनिया की सभी प्रकार की सब्जियाँ और पेड़ - पौधे देखे जा सकते है। 


गाँव के सभी लोग मिलकर इस मुहीम को आगे बढ़ा रहे है। यहाँ उगने वाली कुछ सब्जियों को हम आगे मार्केट में देते है बाकी हमारे रोज के भोजन में काम आती है। यहाँ सभी मिलकर डिनर करते है। यहाँ हमने एक छोटा सा तलाब भी बना रखा है। 


मुझे यह काम बहुत पसंद है। यह ऑर्गेनिक फ़ूड का गांव है। हम सभी कुछ ऐसा कर रहे है जिससे पर्यावरण को बचाया जा सकता है। 


यह भी पढ़े - काला हिरण या कृष्णमृग (भारतीय हिरण) - एक नजर तथ्यों पर

No comments:

Post a Comment