RPSC Latest Notification 2021 

OPSC Recruitment 2021 

ARO Varanasi Army Rally Bharti 2021 

Rajasthan Patwari Exam Date 2021 

RSMSSB Gram Sevak Bharti Latest 


Pati Patni Ka Rishta - पति पत्नी का रिस्ता : तुम नहीं तो कुछ भी नहीं - Husband Wife Relationship in Hindi



Pati Patni Ka Rishta - पति पत्नी का रिस्ता : तुम नहीं तो कुछ भी नहीं - Husband Wife Relationship in Hindi, Best Relationship Tips For Couple जानिए रिश्तों को मजबूत कैसे बनाए


पति पत्नी का रिस्ता बहुत ही अनमोल रिस्ता है। भारतीय संस्कृति में दोनों को एक दूसरे का ही अंग माना जाता है और कहा जाता है की ये बंधन 7 जन्मों का बंधन है। 


रिलेशनशिप टिप्स Healthy Relationship Tips In Hindi

तुम नहीं तो कुछ भी नहीं - Husband Wife Relationship in Hindi 

दोनों का एक दूसरे के बगरे कुछ पल अगल रहना दोनों के लिए बहुत बड़ी चुनौती बन जाता है। अगर ऐसी परिस्थिति आ भी जाती है तो हमेशा मन में यह बात रहती है की आखिर वो कहा होगी / होंगे और क्या कर रहे होंगे। ऐसे में मन में कई सवाल भी आ जाते है और एक दूसरे को चिंता भी सताती है।


यह बंधन एक अटूट प्रेम का बंधन होता है। दोनों एक दूसरे का जीवन भर साथ निभाने का वादा भी करते है और जीवन की हर मुश्किल घड़ी में एक दूसरे का साथ देना ही इस पवित्र रिश्ते की विशेषता है। 


शादी से पहले दोनों एक दूसरे के लिए बहुत ही ज्यादा अजनबी और अनजान होते है लेकिन शादी के कुछ साल बाद दोनों एक दूसरे के इतने करीब आ जाते है की जितना वो खुद के बारे में नहीं जाते उससे ज्यादा वो अपनी पत्नी/पति के बारे में जानते और उन्हें समझते है। 


इस रिश्ते में दोनों में बहुत बार अनबन भी होती है बहुत सी बातों पर लड़ाई भी होती है लेकिन दूर होते हुए भी दोनों को एक - दूसरे की याद सताती है और मन में यह भी होता है की अगर वो माफ़ी मांग लेंगे तो में माफ़ कर दूगा / दूंगी। बहुत बार ये लड़ाईया काफी लम्बी भी चलती है लेकिन आखिर में दोनों फिर से एक हो ही जाते है। क्योकि दोनों को पता है की अगर जीवन में आगे बढ़ना है और अपने बच्चो को उच्च शिक्षा देनी है तो दोनों को एक साथ मिलकर चलना ही होगा। 


बहुत बार किसी अन्य व्यक्ति के कारण भी इस सुंदर और पवित्र रिश्ते में दरार आ जाती है। ऐसे में पति या पत्नी दोनों को अपने बीते पल को भूल कर एक सुंदर जीवन की तरफ आगे बढ़ना चाहिए। इसी में ही उनकी और उनके परिवार की भलाई होती है। 


इस रिश्ते में दोनों की अहमियत काफी होती है इसलिए हमेशा एक - दूसरे को, एक दूसरे की इच्छाओ एवं भावनाओं का समान करना चाहिए।   


पति - पत्नी के इस रिश्ते को केवल और केवल भारतीय संस्कृति में ही इतना समान और आदर मिलता है बाकि संस्कृत इस रिश्ते को इतनी बारीकी से न तो जानती है और न ही सही से समझ पाती है। उनके लिए तो सिर्फ बच्चे पैदा करना ही शादी होता है। लेकिन एक भारतीय इस रिश्ते को अपना जीवन बदलने वाला और जीवन के नए दौर में प्रवेश करने वाला मानते है क्योकि हम इस पवित्र रिश्ते की अहमियत जानते है जिसे बाकि कोई और देश नहीं जान पायेगा। 


यहाँ पर पार्टनर शरीर की आत्मा के समान है जहाँ भी पति या पत्नी जाते है उनके मन में हमेशा अपने पार्टनर की देखरेख और भावनाओ की चिंता हमेशा बनी रहती है। दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू है। अगर एक के कुछ होता है तो दूसरा बिल्कुल भी इसे बर्दास्त नहीं कर सकता है। 


इस रिश्ते में बहुत सी नोक झोक होना, लड़ाई झगड़े होना, आम बात है। लेकिन धीरे - धीरे इस वजह से ही इस रिश्ते में एक मिठास भी आती है। ठीक वैसे ही जैसे “अचार” जैसे - जैसे पुराना होता जाता है, उसका “स्वाद” बढ़ता जाता है…….”पति पत्नी” एक दूसरे को अच्छी प्रकार जानने समझने लगते हैं। जैसे - जैसे इस रिश्ते में साल बीतते है वैसे - वैसे दोनों एक दूसरे पर निर्भर होने लगते है और दोनों में प्रेम भी पहले से कई गुणा ज्यादा बढ़ जाता है। 


दोनों के मन में एक अजीब सा डर भी हमेशा बना रहता है की अगर 

“ये चली गईं तो मैं कैसे जीऊँगा”……..??

“ये चले गए तो मैं कैसे जीऊँगी”……….??


शादी से पहले जो एक दम स्वतंत्र थे वो अब एक दूसरे की डोर में जैसे बंद से जाते है। 

और यह प्यार भरा बंधन भी दोनों को बहुत अच्छा भी लगता है। 

सच में..... बनाने वाले ने ये कितना सुंदर रिस्ता बनाया है।   


आपसे भी विनती है की पति - पत्नी के इस प्यार भरे रिश्ते को हमेशा से बनाए रखे। अपना घमंड और अहंकार एक तरफ रख कर दोनों की अहमियत को समझे और एक दूसरे को प्यार और इज्जत देवे। दोनों में एक भी समझदार होगा तो दुनियाँ की कोई भी ताकत नहीं जो इस रिश्ते को तोड़ सके। 



दोनों एक दूसरे के परिवार एवं माता पिता को भी समान दे उनका आदर कर। अगर किसी से कोई गलती भी हो जाये तो एक दूसरे को माफ़ करना सीखें। इस प्यार भरे रिश्ते हो मधुर बनाने की जिमेवारी किसी एक की नहीं बल्कि दोनों की है दोनों इस बात को भली - भांति समझे। अगल - अलग रहने से सिर्फ और सिर्फ तुम्हारा ही नुकसान है किसी और का कुछ नहीं जाता। इसलिए हमेशा साथ रहे एवं जीवन में काफी आगे बढ़े। धन्यवाद 


जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों एवं परिवार के सभी सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें ताकि सभी रिस्तो में प्यार और एक खूबसूरत मिठास बनी रहे।  


No comments:

Post a Comment

 

Latest MP Government Jobs

 

Latest UP Government Jobs

 

Latest Rajasthan Government Jobs