असली रुद्राक्ष की पहचान कैसे करें - Asli Rudraksh Ki Pehchan | कैसे करें असली रुद्राक्ष की पहचान | Asli Rudraksh Kahan Milta Hai



असली रुद्राक्ष की पहचान कैसे करें - Asli Rudraksh Ki Pehchan | कैसे करें असली रुद्राक्ष की पहचान | Asli Rudraksh Kahan Milta Hai 


दोस्तों रुद्राक्ष का अर्थ है, रुद्र का अक्ष यानी भगवान शिव का आँसू अथवा गहना। माना जाता है कि रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शिव के आंसुओं से हुई है और इसको प्राचीन काल से ही आभूषण की तरह पहना जाता रहा है. मान्यताओं के अनुसार रुद्राक्ष इस धरती पर अकेली ऐसी वस्तु है, जिसे मंत्र जाप और ग्रहों को नियंत्रित करने के लिए सबसे उत्तम माना जाता है। ज्योतिषियों के अनुसार रुद्राक्ष की विशेषताओं और महिमाओ का बखान शास्त्रों में भी खूब किया गया है।



सभी को अपनी - अपनी राशि अनुसार ही रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। इसे गले में धारण करना सबसे अच्छा माना जाता है। रुद्राक्ष हमारे मन को नियंत्रण में रखता है और बार - बार के नजर दोष से भी हमे बचाता है। 


वैज्ञानिक परिक्षण में भी यह बात साबित हो चुकी है कि दिल के रोगियों को रुद्राक्ष धारण करने से बहुत फायदा होता है। 


रुद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति पर महालक्ष्मी की कृपा होती है. जीवन में सभी सुख सुविधाएं प्राप्त हो जाती हैं। 


 इसे धारण करने से हर तरह की मनोकामना भी पूरी होती है। 


रुद्राक्ष धारण करने से, कठिन साधना करने के बाद मिलने वाले फल के बराबर लाभ होता है। 


रुद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति को अपने पापों से मुक्ति मिल जाती है. साथ ही वो भाग्यशाली भी बनते हैं। 


लेकिन दोस्तों आज कल बाजार में कुछ नकली रुद्राक्ष भी मिलते है जिनकी माला जाप से हमें पूर्ण लाभ नहीं मिल पाता। आइये जानते है असली रुद्राक्ष की पहचान कैसे करे -


Asli Rudraksh Ki Pehchan - कैसे करें असली रुद्राक्ष की पहचान 


दोस्तों सबसे पहले किसी बर्तन में पानी ले अब इस में अपने रुद्राक्ष को डाल दे और देखे की आपका रुद्राक्ष डूबा है या नहीं, क्योकि प्राय कर लकड़ी के बने रुद्राक्ष पानी में तैरते रहते है जो की नकली होते है। पानी में डूबा हुआ रुद्राक्ष असली माना जाता है। 


अपने रुद्राक्ष पर सरसों का तेल लगाए अगर उसकी चमक और ज्यादा बढ़े और रंग न उतरे तो समझ जाए की यह असली है। 


असली रुद्राक्ष में ऊपर की सतह उबड़ - खाबड़ प्राकृतिक रूप से होती है। यदी यह समतल है तो समझ जाए की इसे मनुष्यों के द्वारा ही बनाया गया है। 


रुद्राक्ष जितने कम मुखी होता है वह उतना ही महँगा होता है। 1 मुखी रुद्राक्ष सबसे महंगा होता है। बाजार में 10 - 20 रुपयों में मिलने वाले रुद्राक्ष नकली ही होते है। इसलिए इसे खरीदने से पहले इसकी पहचान अवश्य कर ले। 



No comments:

Post a Comment