सुकरात के जीवन की एक सच्ची घटना : सफलता का रहस्य - Safalta ka Rahasya Kya Hai | Secrets of Success in Hindi | Moral Story In Hindi | Kamyabi Ka Rahasya



सुकरात के जीवन की एक सच्ची घटना : सफलता का रहस्य - Safalta ka Rahasya Kya Hai | Secrets of Success in Hindi | Moral Story In Hindi | Kamyabi Ka Rahasya



सुकरात यूनान के एक महान दार्शनिक थे। उन्हें पश्चिमी दर्शन का जनक भी कहा जाता है। पश्चिमी सभ्यता के विकास में उनकी अहम भूमिका रही है। वैसे तो सुकरात के जीवन की ऐसी बहुत सी घटनाएं है जिनसे कुछ न कुछ शिक्षा जरूर प्राप्त की जा सकती है लेकिन आज हम आपके लिए एक ऐसी सच्ची घटना लेकर आए है जिसे जान कर आप भी सफलता का मूल मंत्र जान जाओगे। 


एक बार एक नौजवान लड़के ने सुकरात से पूछा कि सफलता का रहस्य क्या है?


सुकरात ने उस लड़के से कहा कि तुम कल मुझे नदी के किनारे मिलो। वो लड़का अगले दिन सुकरात की बताई जगह पर पहुंच गया । फिर सुकरात ने नौजवान से अपने साथ नदी की तरफ बढ़ने को कहा और जब आगे बढ़ते-बढ़ते पानी गले तक पहुँच गया, तभी अचानक सुकरात ने उस लड़के का सर पकड़ के पानी में डुबो दिया। 


लड़का बाहर निकलने के लिए संघर्ष करने लगा, लेकिन सुकरात ताकतवर थे और उसे तब तक डुबोये रखे जब तक की वो नीला नहीं पड़ने लगा। फिर सुकरात ने उसका सर पानी से बाहर निकाल दिया और बाहर निकलते ही जो चीज उस लड़के ने सबसे पहले की वो थी हाँफते-हाँफते तेजी से सांस लेना। 


सुकरात ने पूछा ,” जब तुम पानी के अंदर थे तो तुम सबसे ज्यादा क्या चाहते थे?”


लड़के ने उत्तर दिया,”सांस लेना”


सुकरात ने कहा,” यही सफलता का रहस्य है। जब तुम सफलता को उतनी ही बुरी तरह से चाहोगे जितना की तुम सांस लेना चाहते थे। तो वो तुम्हे मिल जाएगी” इसके आलावा और कोई रहस्य नहीं है। 


No comments:

Post a Comment