सिकंदर का इतिहास - Sikandar Mahan Ka Itihas | History of Alexander the Great in Hindi | Sikandar Biography Hindi



सिकंदर का इतिहास - Sikandar Mahan Ka Itihas | History of Alexander the Great in Hindi | Sikandar Biography Hindi


 


 - सिंकदर 326 ई.पू. में रवैबर के दर्रे के माध्यम से भारत पहुंचा।


- उसने सिंधु नदी पर औहिंद में अटोक से लगभग 24 कि.मी. ऊपर एक पुल का निर्माण करवाया।


- सर्वप्रथम सिंकदर की भेंट तक्षशिला के राजा अम्बी से हुई।


- उसने पोरस को पराजित किया जो चिनाब एंव झेलम नदी के मध्यक्षेत्र पर शासन कर रहा था।


- वह व्यास नदी तक आया एवं स्वयं की सेना विद्रोह से वापस लौट गया ।


- सिकंदर 324 ई.पू. में सूसा (ईरान) वापस पहुँचा।


- सिकंदर या अलेक्जेंडर द ग्रेट मकदूनियाँ, (मेसेडोनिया) का ग्रीक प्रशासक था। 


- सिकंदर को यूनान का एक महान शासक माना जाता है। 


- इतिहास में सिकंदर एक कुशल और यशस्वी सेनापतियों में से एक माना गया है।


- सिकंदर ने महान दार्शनिक अरस्तु से अपनी शिक्षा प्राप्त की थी। 


- सिंहासन संभालते ही सिकंदर अपने प्रतिद्वंद्वियों को खत्म करने लगा। जिसकी शुरुआत उसने अपने चचेरे भाई, पूर्व अमीनटस चौथे की हत्या करवाके की। इतिहास में सिकंदर को एक क्रूर शासक के रूप में भी जाना जाता है। 


- सिकंदर का सपना था की एक दिन वह पुरे विश्व को जीतेगा लेकिन ऐसा नहीं हो सका और अंत में यह कार्य सिकंदर के सेनापति सेल्‍यूकस निकेटर ने किया। 


- सिकंदर को भारत में पंजाब के शासक पोरस के साथ युद्ध करना पड़ा, जिसे हाइडेस्‍पीज के युद्ध या झेलम के युद्ध के नाम से जाना जाता है। 


-  सिकंदर की मृत्यु के बाद उसका सेनापति सेल्यूकस यूनानी साम्राजय का शासक बना


- 32 वर्ष की आयु में बेबीलॉन में सिकंदर की मृत्यु हो गई।


No comments:

Post a Comment