ओमकारेश्वर ज्‍योतिर्लिंग की कथा - भगवान ओमकारेश्वर की महिमा, कथा और संहार की शक्ति | Omkareshwar Jyotirlinga Story and History in Hindi | Omkareshwar Mahadev Mandir Ujjain Madhya Pradesh



ओमकारेश्वर ज्‍योतिर्लिंग की कथा - भगवान ओमकारेश्वर की महिमा, कथा और संहार की शक्ति | Omkareshwar Jyotirlinga Story and History in Hindi | Omkareshwar Mahadev Mandir Ujjain Madhya Pradesh 




इस स्थान को लेकर प्रमुख तीन कथाएँ है। आइये जानते है इस मंदिर के इतिहास के बारे में -


पहली कथा 


एक बार विन्ध्यपर्वत ने भगवान शिव की कई महीनों तक कठिन तपस्या की उनकी इस तपस्या से प्रसन्न होकर शंकर जी ने उन्हें साक्षात दर्शन दिये और विन्ध्य पर्वत से अपनी इच्छा प्रकट करने के लिए कहा। 


इस अवसर पर अनेक ऋषि और देव भी उपस्थित थे़। विन्ध्यपर्वत की इच्छा के अनुसार भगवान शिव ने ज्योतिर्लिंग के दो भाग किए। एक का नाम ओंकारेश्वर रखा तथा दूसरा ममलेश्वर रखा। ओंकारेश्वर में ज्योतिर्लिंग के दो रुपों की पूजा की जाती है। 


दूसरी कथा 


ओंकारेश्वार ज्योतिर्लिंग से संबन्धित अन्य कथा के अनुसार भगवान के महान भक्त अम्बरीष और मुचुकुन्द के पिता सूर्यवंशी राजा मान्धाता ने इस स्थान पर कठोर तपस्या करके भगवान शंकर को प्रसन्न किया था। उस महान पुरुष मान्धाता के नाम पर ही इस पर्वत का नाम मान्धाता पर्वत हो गया। 


ॐकारेश्वर एक हिन्दू मंदिर है। यह मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में स्थित है। यह नर्मदा नदी के बीच मन्धाता या शिवपुरी नामक द्वीप पर स्थित है। यह भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगओं में से एक है , सदियों पहले भील जनजाति ने इस जगह पर लोगो की बस्तियां बसाई और अब यह जगह अपनी भव्यता और इतिहास से प्रसिद्ध है। यह यहां के मोरटक्का गांव से लगभग (14 कि॰मी॰) दूर बसा है। यह द्वीप हिन्दू पवित्र चिन्ह ॐ के आकार में बना है। यहां दो मंदिर स्थित हैं। 


1. ) ॐकारेश्वर


2. ) ममलेश्वर



तीसरी कथा 


राजा मान्धाता ने यहाँ नर्मदा किनारे इस पर्वत पर घोर तपस्या कर भगवान शिव को प्रसन्न किया और शिवजी के प्रकट होने पर उनसे यहीं निवास करने का वरदान माँग लिया। तभी से उक्त प्रसिद्ध तीर्थ नगरी ओंकार-मान्धाता के रूप में पुकारी जाने लगी। जिस ओंकार शब्द का उच्चारण सर्वप्रथम सृष्टिकर्ता विधाता के मुख से हुआ, वेद का पाठ इसके उच्चारण किए बिना नहीं होता है। इस ओंकार का भौतिक विग्रह ओंकार क्षेत्र है। इसमें 68 तीर्थ हैं। यहाँ 33 कोटि देवता परिवार सहित निवास करते हैं।


मध्यप्रदेश में देश के प्रसिद्ध 12 ज्योतिर्लिंगों में से 2 ज्योतिर्लिंग विराजमान हैं। एक उज्जैन में महाकाल के रूप में और दूसरा ओंकारेश्वर में ओम्कारेश्वर- ममलेश्वर के रूप में विराजमान हैं।


ओमकारेश्वर ज्योतिर्लिंग कहा स्थित है ?


मालवा क्षेत्र में श्रीॐकारेश्वर स्थान नर्मदा नदी के बीच स्थित द्वीप पर है। उज्जैन से खण्डवा जाने वाली रेलवे लाइन पर मोरटक्का नामक स्टेशन है, वहां से यह स्थान 10 मील दूर है। यहां ॐकारेश्वर और मामलेश्वर दो पृथक-पृथक लिंग हैं, परन्तु ये एक ही लिंग के दो स्वरूप हैं। श्रीॐकारेश्वर लिंग को स्वयंभू समझा जाता है।



No comments:

Post a Comment