पुष्यमित्र शुंग का इतिहास और जीवन परिचय - Pushyamitra Shunga Ka Itihas | Life History of Pushyamitra Shunga in Hindi | Shunga Empire in Hindi



Pushyamitra Sung Biography In Hindi - पुष्यमित्र शुंग का इतिहास और जीवन परिचय - Pushyamitra Shunga Ka Itihas | Life History of Pushyamitra Shunga in Hindi | Shunga Empire in Hindi



सनातन धर्म का रक्षक हिन्दू शेर पुष्यमित्र शुंग का इतिहास 


- पुष्यमित्र शुंग की शासनावधि 185 - 149 ईसा पूर्व बताई जाती है। 


- पुष्यमित्र शुंग "शुंग वंश" के संस्थापक और प्रथम शासक थे। 


-  पुष्यमित्र शुंग ने मौर्य सम्राट बृहद्रथ मौर्य के अहिंसक नीतियों के कारण उनका वध कर स्वयं को राजा उद्घोषित किया।


- उसके बाद उन्होंने अश्वमेध यज्ञ किया और उत्तर भारत का अधिकतर हिस्सा अपने अधिकार क्षेत्र में ले लिया।


- शुंग राज्य के शिलालेख पंजाब के जालन्धर में मिले हैं


- पुष्यमित्र शुंग को यवन आक्रमणों का भी सामना करना पड़ा। 


- समकालीन पतंजलि के महाभाष्य से हमें दो बातों का पता चलता है - पतंजलि ने स्वयं पुष्यमित्र शुंग के लिए अश्वमेध यज्ञ कराए। उस समय एक आक्रमण में यवनों ने चित्तौड़ के निकट माध्यमिका नगरी और अवध में साकेत का घेरा डाला, किन्तु पुष्यमित्र ने उन्हें पराजित किया।


- कालिदास के 'मालविकाग्निमित्र' नाटक में उल्लेख आया है कि यवन आक्रमण के दौरान एक युद्ध सिंधु नदी के तट पर हुआ और पुष्यमित्र के पोते और अग्निमित्र के पुत्र वसुमित्र ने इस युद्ध में विजय प्राप्त की। 


- भारत वर्ष में कई महान राजा हुए हैं। हिंदू धर्म ग्रंथ और ऐतिहासिक साहित्य इनका वर्णन करते हैं। पुराणों में पुष्यमित्र शुंग का एक महान राजा ऐसा वर्णन मिलता हैं। ऐसे ही एक प्रतापी राजा हुए पुष्यमित्र शुंग। शुंग वंश की शुरूआत करने वाले पुष्यमित्र शुंग जन्म से एक ब्राह्मण और कर्म से क्षत्रिय थे। 


- हालांकि, पुष्यमित्र शुंग ने बृहद्रथ मौर्य को देशविरोधी कार्य करने के कारण आमने-सामने की लड़ाई में मार कर, मौर्य साम्राज्य का खात्मा कर भारत में दोबारा से वैदिक धर्म की स्थापना की थी।


- पुष्यमित्र ने 36 वर्षों तक शासन किया और उसके बाद उसका पुत्र अग्निमित्र सत्तासीन हुआ।


इसके बाद अब हम पुष्यमित्र शुंग के पुत्र अग्निमित्र के बारे में जानेंगे - अग्निमित्र का इतिहास


No comments:

Post a Comment