अंग्रेजो के समय का भारत : ब्रिटिश साम्राज्य ने बेरहमी से भारत का शोषण किया देखिए ये तस्वीरें | Angrejo Ke Samay Ka Bharat | British Empire Ruthlessly Exploited India



अंग्रेजो के समय का भारत : ब्रिटिश साम्राज्य ने बेरहमी से भारत का शोषण किया देखिए ये तस्वीरें | Angrejo Ke Samay Ka Bharat | British Empire Ruthlessly Exploited India


आज हम आपको कुछ ऐसी तस्वीरें दिखाने जा रहे है जिन्हे देखकर आपका भी खून खोल उठेगा और आपके आँखों में भी आँसू आ जाएंगे। यह उस समय का भारत है जब मुगलों से पीड़ित जनता के बीच अचानक ही अंग्रेज आ धबके और भारत के पुराने जख्मों पर मलहम लगाना तो दूर बल्कि इन लोगों ने उन जख्मो पर नमक ही छिड़का है। 


एक समय सोने की चिड़िया कहे जाने वाला भारत अग्रेजो के समय बुरी तरह से दुःख और गरीबी में अपना जीवन बिता रहा था। क्योकि जितना धन भारत के पास चन्द्रगुप्त और सम्राट अशोक के शासन काल में था वो सभी मुगल और अंग्रेज अपने देशो में बारह ले जा चुके थे। फिर बची तो भारत में भुखमरी और दरिद्रता इसके आलावा कुछ नहीं। इसी गरीबी का फायदा भी अब ब्रिटिश सरकार उठाने लगी थी। 


उस समय सभी समाचार पत्र और खबरे बंद करवा दी गई थी। भारत के तमाम पत्रकार और नेताओ को जेल में बंद कर दिया गया और भारत के मासूम लोगो का शोषण करने लगे। 


देखिए इन तस्वीरों में.... 



उस समय के लोगो के शरीर को देख कर भली - भाँति आप इस बात का अंदाजा लगा सकते हो की उस समय लोगो में पोषण की कितनी कमी थी। न तन पर कपड़ा और न पेट में रोटी। 


इस फोटो में भी आप यह साफ़ देख सकते हो की कैसे एक व्यक्ति अंग्रेज अफसर की गुलामी कर रहा है। उसके पैरों के नाख़ून काट रहा है। अगर उस समय कोई अग्रेजो का कार्य न करता तो उसे कठोर से कठोर दंड दिया जाता था। और जो अंग्रेजो की चापलूसी करता उन्हें अच्छे वस्त्र और भोजन मिलता था। बस इसी कारण कुछ लोग अंग्रेजो की गुलामी करने लगे। और जिन्हें गुलामी स्वीकार नहीं वो वीर शहीद हो गए। 


इस फोटो में भी आप एक माँ को देख सकते है जिसने काफी समय से कुछ खाया -  पिया नहीं है लेकिन अपने बच्चे को दूध पीला रही है ताकि वो भूखा न सोये। रोटी न मिलने के कारण इनके शरीर हडियो के ढांचे बनकर रह गए है। 


ऊपर दी गयी फोटो में आप एक परिवार को देख सकते है। जो गरीबी में अपना जीवनयापन कर रहे है। भूख - प्यास से भिलखते दो बच्चे भी पास में है। वाकई में यह तस्वीरें बहुत हैरान करने वाली है। हम कल्पना भी नहीं कर सकते की उन लोगो पर उस वक्त क्या बीत रही होगी। हमें उन वीर शहीदों को तहे दिल से शुक्रिया करना चाहिए जिन्होंने हमे अंग्रेजो से आजाद करवाया है। 


इस तस्वीर में ब्रिटिश सम्राज्य की एक और कुरता आपको दिखाई देगी। यहाँ कुछ लोगो ने एक बहुत बड़े चीते का अपनी बंदूक से शिकार किया है और अपने आप को बहादुर मानकर मरे चीते के पास फोटोये खिचवा रहे है। दोस्तों आपकी जानकारी के लिए यह भी बता दू की उस समय भारत के बड़े - बड़े जंगली जीवो को बहुत मारा गया और विदेशो में इनकी खाली बेचीं गई। जिससे इन अंग्रेजो ने कारतूस, जूते, बेल्ट, दस्ताने, फीते, टोपिया आदि अपनी सुविधा की ढेरो वस्तुए बनाई। जो वाकई में निंदनीय है। हमे अपने इस्तमाल और आवश्यकता के लिए इन निर्दोष जीवो की हत्या नहीं करनी चाहिए। इनको मार कर हम बहादुर नहीं बल्कि स्वार्थी, डरपोक और कायर ही माने जायेगे। 


इस तस्वीर में आप देख सकते हो की कैसे दो ब्रिटिश अफसर पटरियों के ऊपर एक गाड़ी में बैठे है। इन्हे पीछे से 4 भारतीय धक्का लगा कर मंजिल तक पहुंचा रहे है। यह तस्वीर मानवता के एक बहुत ही सवेदनशील समय के बारे में बता रही है की जिसके पास पावर है वही सब कुछ है बाकि सब उनके गुलाम ही है। यह वाकई में मानवता को शर्मसार करने वाला दर्शय है। 


अब जो आप तस्वीर देख रहे है उसमे एक ब्रिटिश बच्चा और एक भारतीय बच्चा है। ब्रिटिश बच्चा घोड़े के ऊपर है और भारतीय बच्चा उसे सवारी करवा रहा है। अंग्रेज सदा से ही भारतीय लोगो को मजदूरों की तरह ही काम लेती आई है। फिर चाहे वह यहाँ का आदमी हो महिला हो या बच्चा ही क्यों नहीं वो सभी से अपना काम करवाते थे। 

अंग्रेज भारतीयों से मजदूरों की तरह काम भी करवाते थे साथ में उन्हें उनकी पूरी तनखा भी नहीं देते थे। उन्हें बाद में कोड़े मार कर वहाँ से भगा दिया जाता था। 

दोस्तों हम चाहते है की अंग्रेजो के समय की यह कुरता भारत के हर एक व्यक्ति हो पता चले इसलिए जितना हो सके इसे अपने व्हाट्सप्प और फेसबुक ग्रुप में हर जगह शेयर करे। ताकि उस समय की ब्रिटिश सरकार का चेहरा सबके सामने आए। 

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/HindiMadhushala) और Twitter (https://twitter.com/HindiMadhushala) पर फॉलो करें।



No comments:

Post a Comment