क्या आप भी है डिप्रेस्शन के शिकार ? जानिए डिप्रेशन के शुरुआती लक्षण और इलाज - Depression - Causes, Symptoms and Treatment in Hindi



Depression Kya Hota hai in hindi - क्या आप भी है डिप्रेस्शन के शिकार ? जानिए डिप्रेशन के शुरुआती लक्षण और इलाज - Depression - Causes, Symptoms and Treatment in Hindi


आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में हम अपने लिए सही समय निकाल ही नहीं पाते ऐसे में हमें न जाने कितने प्रकार की बीमारियाँ घेर लेती है। जिसमे कमजोरी, चक्कर आना, सिरदर्द आदि तो आम बात हो गई है। 



ज्यादा तनाव की वजह से और ज्यादा पढ़ाई और काम के कारण आज कल के युवा भी धीरे - धीरे डिप्रेशन के शिकार होते जा रहे है। एक सर्वे के मुताबिक 10 में से 6 व्यक्ति डिप्रेशन के शिकार हो चुके है। 


सही खान - पान का न होना और पर्याप्त मात्रा में नींद न ले पाने से भी आज कल के बच्चे डिप्रेशन में चले जाते है। डिप्रेशन सिर्फ और सिर्फ ज्यादा तनाव के कारण ही होता है। जब हम किसी भी चीज के बारे में अधिक सोचने लगते है ऐसे में चारों तरफ से तनाव से घिर जाते है। तनाव के कारण हम शाररिक और मानसिक दोनों ही स्तर से कमजोर हो जाते है। जिसके कारण हम डिप्रेशन का शिकार हो जाते है। 


आइये जानते है आखिर डिप्रेशन क्यों होता है -


- अचानक से हमारे जीवन में कोई बड़ा बदलाव आ जाता है जैसे कोई दुर्घटना, जीवन में कोई बड़ा परिवर्तन या संघर्ष, किसी पारिवारिक सदस्य या प्रियजन को खो देना, आर्थिक समस्या होना या ऐसे ही किन्हीं अन्य गम्भीर बदलावों के कारण भी हम डिप्रेशन में चले जाते है। 


- पर्याप्त मात्रा में नींद न ले पाने से भी हम डिप्रेशन के शिकार हो जाते है। 


- अधिक कम्प्यूटर और मोबाइल चलाने पर भी 


- किसी दूसरे पर खुद से ज्यादा भरोसा करने के कारण भी, अगर वह व्यक्ति हमे धोखा देता है तो ऐसे में हम विचारो से उलझ जाते है और अपने आप को कोसने लगते है जिससे हम तनाव से भर जाते है और कई बीमारियों से घिर जाते है। 


ऐसे अनेक कारण है जिनसे हम डिप्रेशन का शिकार होते है और हमे पता तक नहीं चलता है। 


आइये जानते है डिप्रेशन के क्या लक्षण है -


- ज्यादा डिप्रेशन में हाथ कांपने लगते है। 


- व्यक्ति में आत्मविश्वास की कमी हो जाती है। 


- डिप्रेशन में व्यक्ति चिड़चिड़ा होने लगता है और अपने अंदर थकान महसूस करता है। 


- डिप्रेशन के शिकार व्यक्ति बहुत जल्दी गुसा हो जाते है। 


- किसी भी कार्य में ध्यान केन्द्रित करने में परेशानी होती है।


- खुद को परिवार एवं भीड़ वाली जगहों से अलग रखने की कोशिश करता है। वह ज्यादातर अकेले रहना पसन्द करता है।


- खुशी के वातावरण में या खुशी देने वाली चीजों के होने पर भी वह व्यक्ति उदास ही रहता है।


-  रोगी भीतर से हमेशा बेचैन प्रतीत होते हैं तथा हमेशा चिन्ता में डूबे हुए दिखाई देते हैं।


 

डिप्रेशन के शिकार व्यक्ति अलग - अलग मादक पर्दार्थो का सेवन भी करते है इसमें से कुछ शराब आदि का सहारा भी लेने लगते है लेकिन ऐसे में उनकी समस्या का समाधान होने की बजाए वह समस्या धीरे - धीरे और बढ़ जाती है। 


आइये जानते है आखिर डिप्रेशन से कैसे बचे इसका इलाज क्या है -


सबसे पहले तो डॉक्टरों का और मनोचिकित्स्क सभी का यही कहना होता है की आपको अपनी जीवनशैली में बदलाव करने की आवश्यकता है और यह बात सही भी है। क्योकि जब तक आप अपनी एक मजबूत दिनचर्या नहीं बनाओगे तब तक आप इस बीमारी से नहीं बाहर निकल सकते हो। ऐसे में आपको सुबह जल्दी उठ कर प्रकृति का आनंद लेना चाहिए। 


- सबसे पहले आप सुबह जल्दी उठने की आदत डाले और कुछ दूर टहलने जाए। 


- पर्याप्त मात्रा में पानी पिए शाकाहारी भोजन करें। 


- अगर हो सके तो भोजन में दही का सेवन अवश्य करे इससे तनाव काफी कम होता है और नींद भी अच्छी आती है। 


- सोने से पहले 15 से 20 मिनट ध्यान करे। इसके लिए आप यूट्यूब पर वीडियो देख सकते हो। 


- सोने से 1 घंटा पहले ही अपना मोबाइल एक तरफ रख दे। 


- रोज मोटीवेस्टिव चीजे पढ़े और अच्छे गाने सुने जो आप में एक नई जान डाल दे। 


- पोषक तत्वों से भरपूर भोजन करना चाहिए जिसमें शरीर के लिए जरूरी सभी विटामिन्स और खनिज हो।


- अपने भोजन में एवं सलाद के रूप में टमाटर का सेवन करें। 


- अच्छी नींद ले। नींद से तनाव कम होता है और शरीर भी ऊर्जावान बनता है। 


- जंक फूड का सेवन पूरी तरह छोड़ दें।


- धूम्रपान, मद्यसेवन या किसी भी प्रकार का नशे का सर्वथा त्याग करना चाहिए।


- कैफीनयुक्त पदार्थ जैसे चाय, कॉफी का अधिक सेवन न करें । 


- सेब के सेवन से डिप्रेशन से मिलती है राहत


इन सभी के बाद भी आप सही नहीं हो पाते और आपको लगता है की अभी भी में किसी बात को लेकर या किसी घटना को लेकर तनाव महसूस करता हूँ या करती हूँ तो आप किसी अच्छे डॉक्टर से सम्पर्क करें। वह आपको सही मार्गदर्शन देगा। 


अगर आपको यह जानकारी पसंद आई है तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें। 



No comments:

Post a Comment