राजस्थान में गरीबी : राजस्थान के सामाजिक और सांस्कृतिक मुद्दे - Poverty in Rajasthan: Social and Cultural Issues of Rajasthan



राजस्थान में गरीबी में जीवन यापन करने वालो की संख्या अन्य राज्यों से ज्यादा ही है। गरीबी में राजस्थान तेरहवें स्थान पर है। राजस्थान में गरीबी रेखा के नीचे के लोगो का प्रतिशत 14.71 है। 


बात करें राजस्थान की कुल जनसंख्या की तो राजस्थान में 6,85,48,437 लोग निवास करते है। क्षेत्रफल की दृस्टि से भी यह भारत का सबसे बड़ा राज्य है। 



यहाँ की प्रमुख समस्या गरीबी रेखा में जीवन यापन करने वाले लोग नहीं है बल्कि यहाँ की प्रमुख समस्या है पूर्ण रोजगार न उपलब्ध हो पाना। 


प्रदेश में युवाओं की बढ़ती बेरोजगारी चिंता का एक प्रमुख विषय है। जिसके कारण राज्य में गरीबी का स्तर काफी ज्यादा बढ़ चूका है। 


राज्य में कई योजनाए भी शुरू की गई है ताकि इस बेरोजगारी को कम किया जाए लेकिन जब तक इस और कोई प्रभावी कदम नहीं उठाया जाएगा तब तक समस्या ऐसे ही बनी रहेगी। 


राज्य की गरीबी यहाँ की समाजिक समस्या का मुख्य कारण भी है। चीन के 8 कराेड़ वाले प्रांत में 17 गरीब लोग है, इतनी ही आबादी वाले राजस्थान में 25 लाख लोग गरीबी रेखा से नीचे अपना जीवन यापन कर रहे है। यह वाकई में एक चिंता का विषय है जो राज्य और केंद्र सरकार को अपनी और खींचने को मजबूर कर रहा है। क्योकि अगर इस और अभी ध्यान नहीं दिया जायेगा तो यह बहुत भयंकर समस्या के रूप में भी उबर सकती है। 


किसानों को फसल नुकसान से संबंधित आय के झटके से बचाना और अत्यधिक गरीबी को खत्म करना इस सदी की महत्वपूर्ण विकास प्राथमिकताएं हैं। भारत ने विभिन्न फसल बीमा योजनाओं के माध्यम से किसानों को सूखे और अन्य आपदाओं के कारण होने वाली आय हानि से बचाने में महत्वपूर्ण प्रगति की है। राजस्थान के मामले में हालांकि 1994 और 2012 (विश्व बैंक, 2016) के बीच दो दशकों में गरीबी को 38% से 15% तक कम करने में महत्वपूर्ण प्रगति हुई है, ग्रामीण गरीबी दर अभी भी जिलों में महत्वपूर्ण अंतर वाले शहरी क्षेत्रों की तुलना में अधिक है। गरीबी में कमी को स्थायी तरीके से आगे बढ़ाना एक चुनौती बनी हुई है।


देखा जाए तो राज्य की सरकार के सफल प्रयासों से पिछले कुछ वर्षो में राजस्थान के गरीबी प्रतिशत में काफी अंतर् आया है। यह सभी राज्य के अच्छे विकास और आर्थिक मजबूत दिशा की और संकेत करते है। अब धीरे - धीरे राज्य की गरीबी दर घट रही है। मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत यहा पर काफी गरीब लोगो ने अपने घर बना लिए है। 


केंद्र और राज्य की कई योजना से यहाँ पर गरीब तबके के लोगो को मुफ्त राशन और शिक्षा की सुविधा भी अब मिल रही है। किसानो की स्थिति को मजबूत करने के लिए भी सरकार ने यहां कई योजनाओ का शुभारम्भ भी किया है। उम्मीद है की सरकार के इन सभी प्रयासों से राज्य की गरीबी जल्द ही दूर होगी और राज्य एक नए विकास की और कदम रखेगा। 


यह भी पढ़े : राजस्थान में शिक्षा : राजस्थान के सामाजिक और सांस्कृतिक मुद्दे



No comments:

Post a Comment