भारत में विवाह एक पवित्र रिश्ता – Bharat Me Vivah Ek Pavitra Rishta

Hindi Article on Indian Wedding – भारत में विवाह करना एक पवित्र रिश्ता है भारत एक विविधता भरा देश है इसमें बहुत सारे धर्म, विभिन्न प्रकार की जातियाँ रहती है| उनके विविध प्रकार के रीति रिवाज है जिसमे सबसे महत्वपूर्ण परम्परा है विवाह, वैसे तो विवाह (शादी) सभी करते है विदेशो में भी होती है | पर भारत में शादी करना एक पवित्र रिश्ता माना जाता है

ऐसा माना जाता है की शादी दो लोगो के बीच नहीं अपितु दो आत्माओ का मिलन है और सबकी जोड़िया ऊपर से बन कर आती है|

भारत में विवाह एक पवित्र रिश्ता – Bharat Me Vivah Ek Pavitra Rishta

भारत में शादी दो लोगो के बीच नहीं उनके परिवारों के बीच, उनके रीति -रिवाजो को भी जोड़ता है जब एक स्त्री-पुरष के बीच विवाह होता है तो उनका मिलान होता है साथ ही उनके परिवारों का भी इस लिए इसे एक पवित्र रिश्ता माना जाता है |

यह भी पढ़े – हिन्दी निबंध : विज्ञान के चमत्कार 

भारत में अलग-अलग धर्मो में अलग अलग रीति-रिवाजो से शादी होती है जहाँ हिन्दू धर्म में पवित्र अग्नि के सात फेरे करवाए जाते है
सिख धर्म में पवित्र गुरुद्धारे में जा कर इस रस्म को निभाया जाता है |

इस्लाम धर्म में मौलवी द्वारा आपसी सहमति से होती है और क्रिश्चयन में चर्च में जाकर फादर के द्वारा शादी करवाई जाती है इस प्रकार विभिन्न धर्मो में विभिन्न तरीको से सम्पन्न करवाई जाती है शादी|

यह भी पढ़े – पढ़ाई में मन कैसे लगाये

इसी प्रकार अलग अलग प्रान्तों में अलग अलग तरीको से विवाह का प्रचलन है आदिवासी जातीयो में उनकी परम्पराओ के अनुसार विवाह करते है कई पुराने रीति रिवाज आज भी प्रचलित है जैसे बाल-विवाह

विवाह एक ऐसी परम्परा है जो की एक त्यौहार के रूप में मनाई जाती है जिसमे सर्वप्रथम भगवान गणेश को आमन्त्रित किया जाता है
फिर वर-वधु को हल्दी लगायी जाती है उनके शुद्ध होने का प्रतीक होती है फिर सात फेरे होते है जो सात जन्मो का पवित्र रिश्ता माना जाता है सभी इन दिनों खूब मौज मस्ती करते है और नई वधु का स्वागत करते है और खुशियाँ मानते है इस प्रकार एक विवाह सम्पन होता है इसलिए विवाह को एक पवित्र रिश्ता कहा जाता है |

यह भी पढ़े – जिंदगी बदल देंगी आपकी यह पोस्ट

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *