कभी बेचे थे बर्गर, आज करोड़ों की सैलरी पाने वाला CEO है यह भारतीय

Nikesh Arora gets $128 million to lead Palo Alto Networks – गाजियाबाद में जन्‍मे भारत के निकेश अरोड़ा टेक्नोलॉज़ी की दुनिया में सबसे ज़्यादा सैलरी पाने वाले सीईओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) बन गए हैं. पालो अल्टो नेटवर्क के नए सीईओ बन गए हैं. हालांकि निकेश का शुरुआती जीवन संघर्षों से भरा हुआ था

2015 में निकेश को ग्लोबल इंडियन में श्रेष्ठ काम के लिए ईटी कॉर्पोरेट सम्मान से नवाज़ा गया था. निकेश की पहली शादी किरण से हुई थी और उनसे एक बेटी है. किरण से तलाक़ के बाद 2014 में उन्होंने आयशा थापर से शादी की

निकेश अरोड़ा एक वायुसेना अधिकारी के बेटे हैं. उन्‍होंने थापर ग्रुप की आयशा थापर से 2014 इटली में पंजाबी रीति-रिवाजों के साथ शादी की. इस समारोह में हॉलीवुड की जानी-मानी हस्‍ती ब्रैड पिट और एंज‍लिना जॉली ने शिरकत की.

निकेश  अरोड़ा गॉल्फ खेलने के शौकीन हैं.

बिज़नेस स्टैंडर्ड को दिए इंटरव्यू में निकेश अरोड़ा ने कहा था कि उन्हें कई कंपनियों ने नौकरी देने से इनकार कर दिया था और अमरीका जाते वक़्त घर से जो तीन हज़ार डॉलर मिले थे उसी से गुज़ारा करना पड़ा था.

फाइनेंशल टाइम्‍स को दिए गए इंटरव्‍यू में निकेश ने बताया था कि अमेरिका में पढ़ाई के दौरान उनके पास काफी कम पैसे थे. इसी वजह से उन्‍होंने कई पार्ट टाइम जॉब किए.

अमेरिका में पढ़ाई के दौरान पहले ही साल में उनकी शादी कर दी गई. इस वजह से आर्थ‍िक बोझ और बढ़ गया था.

इस दौरान पार्ट टाइम जॉब के रूप में उन्‍होंने बर्गर किंग के बर्गर भी बेचे.

यही नहीं कई बार डोर सेक्‍योरिटी गार्ड का काम भी किया

अमेरिकी यूनिवर्स‍िटी में पढ़ाई पूरी होने से पहले निकेश ने 450 कंपनियों को जॉब के लिए लेटर भेजे.

निकेश अरोड़ा सॉफ्ट बैंक और गूगल में काम कर चुके हैं. पालो अल्टो नेटवर्क में उनकी सैलरी सालाना 12.8 करोड़ डॉलर यानी लगभग 857 करोड़ रुपये होगी. पालो अल्टो साइबर सिक्योरिटी कंपनी है. टेक्नोलॉज़ी सेक्टर में निकेश अरोड़ा का लंबा करियर रहा है

हालांकि सिर्फ एक कंपनी से उन्‍हें ऑफर आया. फिडेलिटी इन्वेस्टमेंट ने उन्‍हें  $42,000 की सैलरी पर जॉब ऑफर दिया था. निकेश कहते हैं कि इसके बाद उन्‍होंने पीछे मुड़ कर कभी नहीं देखा और आगे ही बढ़ते गए.

इसके साथ ही भारत के निकेश अरोड़ा टेक्नोलॉज़ी की दुनिया में सबसे ज़्यादा सैलरी पाने वाले सीईओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) भी बन गए हैं. अरोड़ा सॉफ्ट बैंक और गूगल में काम कर चुके हैं.

निकेश अरोड़ा ने मार्क मिकलॉकलीन की जगह ली है. मार्क 2011 से लेकर इस हफ़्ते तक पालो अल्टो के सीईओ थे. मार्क कंपनी में बोर्ड के वाइस चेयरमैन बने रहेंगे. निकेश अरोड़ा बोर्ड के चेयरमैन भी होंगे.

उनकी सैलरी सालाना 12.8 करोड़ डॉलर यानी लगभग 858 करोड़ रुपये होगी. 6 जून को जब वो पद संभालेंगे तब उन्हें 12.6 करोड़ डॉलर के बराबर इक्विटी मिलेगी. इस कंपनी का कैलिफोर्निया में हेड ऑफिस है.

अरोड़ा ने इससे पहले मासायोशी सन की कंपनी सॉफ्टबैंक में 2 साल के लिए काम किया. वो कंपनी में नंबर 2 की पोजीशन पर थे. आपको बता दें कि जून का महीना अरोड़ा के लिए काफी लकी है, इससे पहले 19 जून 2015 को दुनिया की 86वीं और जापान की तीसरी सबसे बड़ी कंपनी सॉफ्टबैंक के सीईओ का पद संभाला था.

निकेश अरोड़ा ने दिल्ली के एयरफोर्स स्कूल से अपनी शुरुआती पढ़ाई की है. 1989 में IIT वाराणसी से इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट होने के बाद विप्रो में नौकरी शुरू की, लेकिन उन्होंने जल्द ही छोड़ दिया

2014 में निकेश ने गूगल को अलविदा कहा और सॉफ्ट बैंक जापान के ग्लोबल इंटरनेट इन्वेस्टमेंट बिजनेस के हेड बन गए. इस दौरान भी निकेश की प्रतिभा रंग लाई और सॉफ्ट बैंक का भारत-इंडोनेशिया में निवेश बढ़ा. उनकी मेहनत का ही नतीजा था कि एक साल के अंदर-अंदर वे सॉफ्ट बैंक के सीईओ का पद संभाल लिया था

अब निकेश से उम्‍मीद पालो अल्टो को आगे ले जाने की होगी.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *