जानिए क्या खाते थे हमारे ऋषि-मुनि, जिससे वो रहते थे लंबे समय तक स्वस्थ्य | Secret of Healthy Life of Rishi Muni

जैसा की हमारे प्राचीन ग्रंथों में उल्लेखित है कि हमारे प्राचीन ऋषि-मुनि
काफी लंबे समय तक स्वस्थ्य और जवान रहते थे। उनके लंबे समय तक सेहतमंद रहने
के कई कारण थे जिसमे से एक उनका खान-पान था। आइए जानते है हमारे प्राचीन
ऋषि मुनियों का खान पान क्या था।

ऋषि-मुनि के लिए चित्र परिणाम 
जानिए क्या खाते थे हमारे ऋषि-मुनि, जिससे वो रहते थे लंबे समय तक स्वस्थ्य | Secret of Healthy Life of Rishi Muni

 कहानी बद्रीनाथ धाम की
कंद- ऋषि-मुनि जमीन के नीचे उगने वाले कंद खाते थे। इनसे एनर्जी मिलती थी लेकिन ज्यादा कैलोरी और फैट से बचाव होता था।

मूल- ऋषि-मुनि मूल यानि कई तरह की जड़ों का उपयोग खाने
के लिए करते थे। इनसे बॉडी को जरुरी न्यूट्रिएंट्स मिलते थे और बीमारियों
से बचाव होता था।

फल- ऋषि मुनि ताजे फल खाते थे। ताजे फलों से बॉडी को एनर्जी और न्यूट्रिएंट्स के अलावा फाइबर्स भी मिलते थे।

आंवला- ये ऋषि-मुनियों की डाइट में फ़ूड और मेडिसिन
दोनों के रूप में शामिल था। इससे उनकीं स्किन हेल्दी रहती थी। बाल लंबें
समय तक काले रहते थे।

शहद- ऋषि-मुनि जंगल में रहते थे और वहां पर शहद उनकी
डाइट जा अहम हिस्सा था। एंटीबायोटिक और एंटीबैक्टीरियल के रूप में शहद
बीमारियों से बचाव करता था।

दूध- ऋषि-मुनि अपने आश्रम में गाय पालते थे और उसका दूध पीते थे। इससे उनकी हड्डियां मजबूरत रहती थी। बीमारियों से बचाव होता था।

घी- देशी गाय का घी, ऋषि-मुनियों की डाइट का जरुरी हिस्सा था। इससे उन्हें जरुरी फैट और एनर्जी मिलती थी। स्किन ग्लोइंग रहती थी।

दही- ऋषि-मुनि के दिन के खाने में दही जरूर शामिल होता था। इससे डाइजेशन अच्छा होता था और पेट की बीमारियों से बचाव होता था।

सब्ज़ियां- ऋषि-मुनि की डाइट का अधिकांश भाग हरी
पत्तेदार चीज़ों का होता था। इससे उन्हें जरुरी विटामिन्स और मिनरल्स के साथ
फाइबर्स भी मिलते थे।

साबुत अनाज- ऋषि-मुनि पका हुआ खाना कम खाते थे लेकिन
साबुत अनाज उसमें शामिल था। इसमें मौजूद न्यूट्रिएंट्स से हार्ट हेल्दी
रहता था। कई बीमारियों से बचाव होता था।

Loading...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *